इस्लामाबाद/नई दिल्ली: पाकिस्तान ने उसके कब्जे वाले कश्मीर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर भारतीय सेना पर संघर्ष-विराम उल्लंघन का आरोप लगाते हुए इस्लामाबाद में सोमवार को भारतीय उप उच्चायुक्त जेपी सिंह को तलब किया. पाकिस्तान के विदेश विभाग ने एक बयान में आरोप लगाते हुए कहा कि भारतीय सेना ने बागसार सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर गोलीबारी की, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई और एक महिला घायल हो गई. जबकि हकीकत यह है कि पाकिस्तान द्वारा लगातार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया जाता रहा है. मंगलवार तड़के भी पाकिस्तान द्वारा पुंछ सेक्टर में संघर्ष विराम के उल्लंघन की खबर आई है.

भारतीय मूल के पुलिस ऑफिसर को ‘अमेरिकी हीरो’ की उपाधि, क्रिसमस की रात मारे गए थे रोनिल सिंह

 

पाकिस्तान विदेश विभाग के दक्षिण-एशियाई डेस्क के महानिदेशक मोहम्मद फैजल ने भारतीय दूत को तलब कर कहा, नियंत्रण रेखा और कार्यकारी सीमा पर भारतीय सेना भारी हथियारों से लगातार आबादी वाले इलाकों को निशाना बना रही है.” फैजल विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के तौर पर भी काम करते हैं. उन्होंने कहा, जान-बूझ कर आवासीय क्षेत्रों को निशाना बनाना वास्तव में निंदनीय और मानवीय मर्यादा, अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार और मानवीय कानूनों के विरुद्ध है.

भारत-अमेरिका संबंध: पीएम मोदी व ट्रंप ने की बातचीत, दोनों देशों के बीच कई अहम मसलों पर हुई चर्चा

उन्होंने भारत पर आरोप लगाते हुए कहा, भारत द्वारा संघर्षविराम का उल्लंघन करना क्षेत्रीय शांति और सुरक्षा के लिए खतरा है और इससे कूटनीतिक गलतफहमियां पैदा हो सकती हैं. एक बयान के अनुसार, प्रवक्ता ने भारतीय पक्ष से 2003 के संघर्षविराम प्रबंध का पालन करने तथा समझौते के उल्लंघनों की जांच करने का आग्रह किया है. उन्होंने इस मुद्दे पर फिर से अंतर्राष्ट्रीय मध्यस्थता का राग अलापते हुए यह भी कहा कि भारत को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के तहत भारत और पाकिस्तान में संयुक्त राष्ट्र सैन्य पर्यवेक्षक दल को महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की अनुमति देनी चाहिए. (इनपुट एजेंसी)