लाहौर: पाकिस्तान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विमान को अपने हवाई क्षेत्र से उड़ान भरने की अनुमति देने के भारत के अनुरोध को सैद्धांतिक रूप से स्वीकार कर लिया है. एक वरिष्ठ पाकिस्तानी अधिकारी ने यह जानकारी दी और उम्मीद जताई कि भारत शांति वार्ता के लिए पाकिस्तान की पेशकश पर गौर करेगा. पाकिस्तानी अधिकारी ने पुष्टि की कि इमरान खान सरकार ने प्रधानमंत्री मोदी के विमान को अपने हवाई क्षेत्र से बिश्केक जाने की खातिर भारत सरकार के अनुरोध को सैद्धांतिक रूप से मंजूरी दे दी है.

भारत का पाक से अनुरोध, PM नरेंद्र मोदी के प्‍लेन को अपने वायुक्षेत्र से गुजरने दे

पीएम मोदी इसी हफ्ते आयोजित शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक में भाग लेने के लिए किर्गिजस्तान में बिश्केक जाने वाले हैं. भारत ने उसी संबंध में प्रधानमंत्री के विमान के लिए अनुमति देने का अनुरोध किया था. बैठक का आयोजन 13-14 जून को होना है. पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान भी इस सम्मेलन में शामिल होंगे.

यहां यातायात व्यवस्था संभाल रहीं महिला पुलिसकर्मी, नियम तोड़ने पर पुलिस वालों को भी नहीं छोड़ा

बालाकोट में 26 फरवरी को जैश-ए-मुहम्मद के आतंकी शिविर पर भारतीय वायुसेना के हमले के बाद पाकिस्तान ने अपना हवाई क्षेत्र पूरी तरह बंद कर दिया था. उसके बाद से उसने अपने 11 हवाई मार्गो में से दो हवाई मार्ग खोले हैं जो दक्षिणी पाकिस्तान से गुजरते हैं.

मौलवी ने 12 साल की लड़की से मदरसा में किया रेप, दिल दहलाने वाली ये वारदातें भी हुईं

पाकिस्तानी अधिकारी ने पुष्टि की कि इमरान खान सरकार ने प्रधानमंत्री मोदी के विमान को अपने हवाई क्षेत्र से बिश्केक जाने की खातिर भारत सरकार के अनुरोध को सैद्धांतिक रूप से मंजूरी दे दी है. उन्होंने कहा, प्रक्रियागत औपचारिकताएं पूरी होने के बाद भारत सरकार को फैसले से अवगत कराया जाएगा. नागरिक उड्डयन प्राधिकरण (सीएए) को भी बाद में एयरमेन को सूचित करने के लिए निर्देश दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को उम्मीद है कि भारत शांति वार्ता के प्रस्ताव पर जवाब देगा.

लू और गर्मी का कहर जारी, केरला एक्सप्रेस में गई 4 यात्रियों की जान

अधिकारी ने कहा कि प्रधानमंत्री खान ने हाल ही में मोदी को एक पत्र लिखा और कहा कि पाकिस्तान को दोनों पड़ोसी देशों के बीच कश्मीर सहित सभी भू-राजनीतिक मुद्दों के समाधान की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को अब भी उम्मीद है कि भारत शांति प्रस्ताव पर प्रतिक्रिया देगा.