इस्लामाबाद: पाकिस्तान ने बुधवार को कहा कि उसने सतह से सतह पर प्रहार करने वाली परमाणु क्षमता संपन्न बैलिस्टिक मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया जो 2,750 किलोमीटर की दूरी तक लक्ष्यों पर प्रहार कर सकती है. लेकिन अब पाकिस्तान के इस दावे की पोल खुलती नजर आ रही है.Also Read - भारत की इस उपलब्धि से कांपेगा दुश्मन, DRDO ने स्वदेशी स्टैंड-ऑफ एंटी टैंक मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया

पाकिस्तान के ही एक नेता ने इसके खिलाफ आवाज उठा दी. उन्होंने दावा किया कि यह मिसाइल बलूचिस्तान में जाकर गिर गई, जिसमें पांच लोग घायल हो गए. दरअसल बुधवार को पाकिस्तान की मीडिया इकाई आईएसपीआर ने एक बयान जारी कर कहा मिसाइल में परमाणु और परंपरागत आयुध को 2,750 किलोमीटर तक ले जाने की क्षमता है. Also Read - CDS Bipin Rawat Death: पाक आर्मी के शीर्ष अफसरों ने जनरल बिपिन रावत की मौत पर किए ट्वीट

लेकिन बलोच नेताओं का कहना है कि ये मिसाइल बलूचिस्तान में जाकर गिरी. बलूच रिपब्लिकन पार्टी के प्रवक्ता शेर मोहम्मद बुगती (Sher Mohammad Bugti) ने अपने ट्वीट कर कहा, ‘पाकिस्तानी सेना ने बलूचिस्तान को लैबोरेट्री में तब्दील कर दिया है. डेरा गाजी खान से सेना द्वारा टेस्ट की गई शाहीन -3 मिसाइल बलूच के मट्ट, डेरा बुगती के रिहायशी इलाकों में आ गिरी. जिसमें कई लोगों के घर तबाह हुए और दो महिलाएं, दो बच्चों सहित पांच लोग घायल हो गए.’ Also Read - भारत ने नेवी के युद्धपोतों के लिए इस 'खास' मिसाइल का सफल परीक्षण किया

वहीं एक्टिविस्ट फाजिला बलूच (Fazila Baloch) ने पाकिस्तान आर्मी पर आरोप लगाते हुए कहा कि बलूचिस्तान हमेशा पाकिस्तानी सेना के घातक हथियारों के प्रयोगों का केंद्र रहा है. उन्होंने बताया कि पाकिस्तानी सेना ने तीन शाहीन मिसाइलों का परीक्षण किया जो डेरा बुगती में गिरीं, जिसमें कई लोगों को गंभीर चोटें आईं.

बता दें कि पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी, प्रधानमंत्री इमरान खान और शीर्ष सैन्य अधिकारियों ने मिसाइल के सफल परीक्षण पर वैज्ञानिकों तथा इंजीनियरों को बधाई दी थी.

(इनपुट भाषा)