इस्लामाबाद: पाकिस्तान में ईशनिन्दा के आरोप में 2010 से ही जेल में बंद ईसाई महिला आशिया बीबी शीर्ष अदालत द्वारा दोषमुक्त करार दिए जाने के बावजूद क्रिसमस हिरासत में ही मनाने को मजबूर है. आठ साल से जेल में बंद आसिया को अभी भी पाकिस्तान में लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ रहा है. कट्टरपंथी लोग लगातार उसे मौत की सजा देने की मांग करते रहे हैं. पाकिस्तान सरकार उसकी जान पर खतरे को देखते हुए उसके ठिकाने का खुलासा करने से इनकार कर रही है.

ईशनिंदा मामले में आसिया बीबी की रिहाई का मुद्दा फिर से गर्म, TLP प्रमुख समेत सौ से ज्यादा लोग गिरफ्तार

इस्लामाबाद की गरीब ईसाई बस्ती, जिसे त्योहार के मद्देनजर सांता हैट और क्रिसमस ट्री से सजाया गया है, के निवासियों में से एक यूसुफ हदायत ने कहा, ‘यह काफी खतरनाक है. लोग उसकी हत्या करना चाहते हैं. इस क्रिसमस ईसाई मोहल्लों की सुरक्षा काफी कड़ी रहेगी. इन इलाकों में सरकार सशस्त्र बलों को तैनात करने जा रही है.

ईशनिंदा मामला: पाक में आसिया बीबी के खिलाफ थमा विरोध, जानें क्यों ‘एग्जिट कंट्रोल लिस्ट’ में शामिल होगा नाम

इन बस्तियों के निवासियों का कहना है कि वे धार्मिक छुट्टी के दौरान पहले से कहीं ज्यादा असहज महसूस करते हैं, जबकि बीबी का भविष्य अभी अधर में लटका हुआ है. इस्लामाबाद स्थित ‘होली ऑफ होलीज चर्च’ के पादरी मुनव्वर इनायत ने कहा, ‘हम डरे हुए हैं. हम किसी के खिलाफ नहीं बोल सकते.’ गौरतलब है कि पाकिस्तान के उच्चतम न्यायालय ने अक्टूबर में ईशनिन्दा के आरोप को लेकर बीबी की मौत की सजा को पलट दिया था और उसे दोषमुक्त कर दिया था.