वॉशिंगटन: पाकिस्तान के परमाणु हथियारों पर नजर रखने वाले लेखकों के एक हालिया रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान में इस समय 140 से 150 परमाणु हथियार है और अगर वर्तमान स्थिति जारी रहती है तो उम्मीद है कि 2025 तक यह बढ़ कर 220 से 250 हो जाएगी. अमेरिका के रक्षा खुफिया एजेंसी ने 1999 में अनुमान लगाया था कि 2020 में पाकिस्तान के पास 60 से 80 परमाणु हथियार होगा, जो इससे 60 से 80 अधिक होकर इस समय अनुमान के मुताबिक 140 से 150 के बीच है. Also Read - पाकिस्तान: कोरोना से लड़ाई में बाधा बनी तब्लीगी जमात की गतिविधियां, मुख्यालय में मिले 27 कोरोना संक्रमित

पाकिस्तान के पास न्यूक्लियर हथियार होने से परमाणु युद्ध होने का खतरा: रिपोर्ट Also Read - Covid 19: पाक में हिंदुओं को सरकारी राशन तक नहीं दिया जा रहा, भूखे रहने की नौबत

‘पाकिस्तान परमाणु बल 2018’ में हंस एम क्रिस्टेनसेन, रॉबर्ट एस नोरिस और जुलिया डायमंड ने कहा, ”हमारा अनुमान है कि अगर वर्तमान स्थिति जारी रही तो 2025 तक देश का परमाणु भंडार वास्तविकता से बढ़ कर कहीं अधिक 220 से 250 के बीच जा सकती है. अगर ऐसा होता है तो पाकिस्तान दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा परमाणु हथियार संपन्न देश हो जाएगा.” Also Read - कोरोनावायरस से पीड़ित पाकिस्तान के दिग्गज स्क्वैश खिलाड़ी आजम खान का निधन

मुख्य लेखक क्रिस्टेनसेन वॉशिंगटन डीसी में फेडरेशन ऑफ अमेरिकन साइंटिस्ट (एफएएस) के परमाणु सूचना परियोजना निदेशक हैं. रिपोर्ट में बताया गया है कि पिछले एक दशक में पाकिस्तान में परमाणु हथियारों की सुरक्षा को लेकर अमेरिका का मूल्यांकन काफी बदल गया है और यह विश्वास से चिंता में बदल गया है और इसकी मुख्य वजह सामरिक परमाणु हथियारों को शामिल करना भी है.

पाकिस्तान के पास 130-140 परमाणु हथियार, जल्द ही बनेगा तीसरा बड़ा परमाणु हथियार संपन्न देश

माना जा रहा है कि पाकिस्तान के परमाणु में 140 से 150 हथियार शामिल हैं और वर्तमान रुझान आगे भी जारी रहा तो तो 2025 तक पाकिस्तान के परमाणु भंडार में 220 से 250 हथियार बढ़कर हो सकते हैं

पाकिस्तानी सेना के गैरीसॉन और वायु सेना के अड्डों की बड़ी संख्या में वाणिज्यिक उपग्रह छवियों का विश्लेषण दिखाता है कि मोबाइल लांचर और भूमिगत सुविधाएं क्या दिखाई देती हैं जो परमाणु बलों से संबंधित हो सकती हैं.

– अनुमान पाकिस्तान में अब 140 से 150 हथियारों का परमाणु हथियार भंडार है
– यह भंडार 1999 में अमेरिकी रक्षा खुफिया एजेंसी द्वारा किए गए अनुमान से अधिक है
– 2025 तक पाकिस्तान का भंडार 220 से 250 वारहेड तक बढ़ सकता है
– यदि ऐसा होता है, तो यह पाकिस्तान को दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा परमाणु हथियार राज्य बना देगा
– हथियारों के विकास में कई डिलीवरी सिस्टम, चार प्लूटोनियम उत्पादन रिएक्टरों और इसकी यूरेनियम संवर्द्धन सुविधाओं का विस्तार
– पाकिस्तान का परमाणु शस्त्रागार अनिश्चित काल तक नहीं बढ़ता रहेगा
– लेकिन वर्तमान हथियार कार्यक्रम पूरा होने के बाद ही इसे खत्म करना शुरू हो सकता है