इस्लामाबाद: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने यहां कश्मीरियों के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए ‘मानव श्रृंखला’ कार्यक्रम की अगुवाई की. पाकिस्तान भर में ‘कश्मीर दिवस’ मनाया गया. जियो न्यूज के मुताबिक, शुक्रवार को इस्लामाबाद में डी-चौक से कन्वेंशन सेंटर तक कई किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला बनाई गई. इस कार्यक्रम में समाज के सभी वर्गों के लोगों ने हिस्सा लिया.

प्रधानमंत्री खान ने इस अवसर पर कहा कि पाकिस्तान को दुनिया को यह संदेश देने की जरूरत है कि उनका देश हमेशा कश्मीर के साथ खड़ा रहेगा. राजधानी में समर्थकों की भीड़ को संबोधित करते हुए खान ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय मीडिया हांगकांग में विरोध प्रदर्शन को लोकतांत्रिक स्वतंत्रता के एक आंदोलन के रूप में पेश कर रहा है जबकि कश्मीर मुद्दे की अनदेखी कर रहा है.

राष्ट्रपति आरिफ अल्वी, सीनेट चेयरमैन सादिक संजरानी, जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री जर्तज गुल, सूचना व प्रसारण मामलों में प्रधानमंत्री की सलाहकार फिरदौस आशिक एवान, कश्मीर मामले और गिलगित-बाल्टिस्तान के मंत्री अली अमीन गंडापुर भी श्रृंखला का हिस्सा थे.

विदेशी मीडिया में कश्मीर पर ‘भाव’ न मिलने से बौखलाए इमरान खान, पीएम मोदी को लेकर दिया बड़ा बयान

वहीं हाल ही में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान कश्मीर मुद्दे पर विदेशी मीडिया में भाव न मिलने पर बौखला गए थे . अपनी बौखलाहट को उन्होंने ट्वीट के जरिए जाहिर किया था. इमरान खान ने कहा कि एक तरफ हांगकांग के प्रदर्शन अंतर्राष्ट्रीय मीडिया की सुर्खियों में बने हुए हैं जबकि दूसरी तरफ कश्मीर के लोगों के साथ हो रहे ‘व्यवहार’ पर इसी मीडिया में अपेक्षाकृत खामोशी छाई रहती है.

इसके अलावा इमरान खान ने शुक्रवार को कहा कि कश्मीर को मिले विशेष दर्जे को समाप्त कर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘अपना आखिरी दांव’ खेल चुके हैं. पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार ‘कश्मीरियों के प्रति एकजुटता’ जताने के लिए शुक्रवार को इस्लामाबाद में मानव श्रृंखला बनाई गई. इस कार्यक्रम में इमरान ने भी शिरकत की. पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने पहले की ही तरह भारत पर बेबुनियाद आरोप लगाते हुए कश्मीर में मानवाधिकारों के कथित उल्लंघन का मुद्दा उठाया और कहा कि ‘भारत ने 80 लाख लोगों को दो महीने से बंद किया हुआ है.’

खुश न हों इमरान! पाकिस्तान बैंक के गर्वनर ने कहा अभी और लगेंगे महंगाई के झटके