इस्लामाबाद: पाकिस्तान ने वैश्विक प्रेस स्वतंत्रता समूह ‘कमिटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स’ (सीपीजे) के एशिया समन्वयक को बर्खास्त कर उनका नाम काली सूची में डाल दिया है. समूह के कार्यकारी निदेशक ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. जोएल सिमोन ने स्टीवन बटलर की बर्खास्तगी को हैरान करने वाला कदम और पाकिस्तान में प्रेस की आजादी को लेकर चिंतित लोगों के चेहरे पर तमाचा करार दिया है. पाकिस्तान सरकार ने इस पर तत्काल कोई टिप्पणी नहीं की है.

बटलर को वैध वीजा होने के बावजूद लाहौर के अल्लामा इकबाल अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर प्रवेश नहीं दिया गया और अमेरिका वापस भेज दिया गया. बटलर के अनुसार, उनको बताया गया कि उनका नाम ‘‘गृह मंत्रालय की निषेध सूची” में शामिल है.

सिमोन ने सीपीजे की ओर से जारी एक बयान में कहा, पाकिस्तानी अधिकारियों को बटलर को प्रवेश से रोकने के अपने फैसले का पूर्ण स्पष्टीकरण देना होगा और इस गलती को सुधारना होगा. उन्होंने कहा, “अगर सरकार स्वतंत्र प्रेस को लेकर अपनी प्रतिबद्धता प्रदर्शित करने की इच्छुक है तो उसे इस मामले की तेजी से एवं निष्पक्ष जांच करानी चाहिए.”

बटलर पाकिस्तान में ‘अस्‍मां जहांगीर सम्मेलन- मानवाधिकारों का खाका’ में शामिल होने की योजना बना रहे थे. इस सप्ताहांत में होने जा रहा सम्मेलन प्रख्यात पाकिस्तानी मानवाधिकार कार्यकर्ता को समर्पित है, जिनकी पिछले साल दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई थी.