इस्लामाबाद: एक अभूतपूर्व कदम में, संयुक्त राष्ट्र वॉचडॉग ने असहिष्णु विचारों के लिए पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान पर और संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) में पाकिस्तान के होने पर निशाना साधा है. पाकिस्तान को हाल ही में यूएनएचआरसी में फिर से चुना गया था, हलांकि देश का मानवाधिकार रिकॉर्ड दुनिया में सबसे खराब है. Also Read - J&K Latest News: जम्‍मू-कश्‍मीर के पुंछ में पाकिस्‍तान की फायरिंग में JCO शहीद

दो हफ्ते पहले, एक फ्रांसीसी शिक्षक का अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के विचार पर क्लास में शार्ली एब्दो में छपे कार्टून को दिखाने पर पेरिस में एक कट्टर इस्लामिक शख्स द्वारा सिर कलम कर दिया गया था. जबकि राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने स्पष्ट कर दिया है कि फ्रांस में इस्लामिक कट्टरपंथ और आतंकवाद को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने यह तर्क देते हुए इस घटना को उचित ठहराया कि शिक्षक ने इस्लामिक पैगंबर का कार्टून दिखा कर ‘ईशनिंदा’ की थी. Also Read - मुंबई हमले को भूल नहीं सकता भारत, अब नई नीति के साथ देश आतंकवाद से लड़ रहा है: PM मोदी

पाकिस्तान सरकार के आधिकारिक ट्विटर हैंडल ने खान को उद्धृत करते हुए कहा था, “अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की आड़ में ईश निंदा बर्दाश्त नहीं किया जा सकता.” Also Read - मां से मिलने पाकिस्तान गई थी भारतीय महिला, 10 महीने फंसे रहने के बाद अब अपने परिवार से मिली, जानें वजह

जेनेवा स्थित अधिकार समूह, जो वैश्विक निकाय का एकमात्र संयुक्त राष्ट्र-मान्यता प्राप्त वॉचडॉग है, ने ट्विटर पर प्रधानमंत्री खान को फटकार लगाते हुए कहा, “संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में आपकी उपस्थिति असहनीय है.”

पाकिस्तान सरकार ने अपनी प्रतिक्रिया में यूएन वॉच पर मुसलमानों के खिलाफ स्पष्ट पूर्वाग्रह के साथ इजरायल समर्थक गैर-सरकारी संगठन (एनजीओ) होने का आरोप लगाया. ट्विटर पर प्रधानमंत्री खान के डिजिटल मीडिया सलाहकार अर्सलान खालिद ने आरोप लगाया कि एनजीओ का संयुक्त राष्ट्र से कोई लेना-देना नहीं है.

एनजीओ ने खान सरकार पर काउंटर अटैक करते हुए कहा कि पाकिस्तान ने मुसलमानों के रक्षक होने का ढोंग किया और फिर भी 10 लाख से ज्यादा उइगर मुसलमानों के मानवाधिकारों के हनन पर उदासीन रुख अपनाया. यूएन वॉच ने कहा कि पाकिस्तान सरकार चीनी सरकार का समर्थन और प्रशंसा करती है जो शिनजियांग प्रांत में उइगर मुसलमानों के खिलाफ नरसंहार कर रही है.