इस्लामाबाद: पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए अपने आपको समाज से अलग-थलग करते हुए अपने घर में ही एकांतवास (आइसोलेशन) में चले गए हैं. चीन से लौटने के तुरंत बाद कुरैशी ने एहतियात के तौर पर यह कदम उठाया है. द नेशन की रिपोर्ट के अनुसार, कुरैशी बीजिंग की दो दिवसीय आधिकारिक यात्रा कर लौटे हैं. Also Read - कोरोना वायरस से हुई मां की मौत तो बेटे ने शव लेने से किया इनकार, जिला प्रशासन को करना पड़ा अंतिम संस्कार

वह पाकिस्तान के राष्ट्रपति डॉ. आरिफ अल्वी व अन्य अधिकारियों के साथ चीन के दो दिवसीय दौरे पर थे. उन्होंने इस्लामाबाद स्थित अपने घर पर अपने आपको सबसे अलग कर लिया है. विदेश मंत्री ने एक बयान में कहा है कि उन्हें स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने यह सलाह दी है. पाकिस्तान में कोरोना तेजी से फैल रहा है. अब तक यहां कोरोना के 249 पॉजिटिव मामले सामने आ चुके हैं और यह संख्या बढ़ने की आशंका है. उन्होंने चीन जाते समय भी अपना टेस्ट कराया था और चीन पहुंचकर उनका दोबारा टेस्ट हुआ. टेस्ट के बाद ही वह चीन के कार्यक्रमों में हिस्सा ले सके. उन्होंने एक पाकिस्तानी टीवी चैनल को बताया कि उन्होंने पांच दिनों तक खुद को एकांतवास (आइसोलेशन) में रखने का फैसला किया है. इसके बाद वह फिर से टेस्ट कराएंगे और अगर उनका टेस्ट नेगेटिव आया, तभी वह बाहर निकलेंगे. Also Read - कोरोना वायरस: वाराणसी के कुछ ग्रामीण क्षेत्रों को सील किया गया, हर मोहल्ले में लगाए गए बैरिकेड

पाकिस्तान में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या 249
पाकिस्तान में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है. सबसे ज्यादा प्रभावित सिंध प्रांत है. वहीं, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि कोरोना से बचने के लिए देश के बड़े शहरों को बंद नहीं किया जा सकता है, क्योंकि इसका नकारात्मक असर देश की अर्थव्यवस्था पर पड़ सकता है. उनका कहना है कि अगर शहर बंद कर दिए गए तो गरीबी में रह रहे लोग कोरोना से तो बच जाएंगे, मगर भूख से मर जाएंगे. Also Read - चीनी आर्मी PLA ने अरुणाचल के युवक को किया था अगवा, अभी तक नहीं कोई अता-पता