न्यूयॉर्क: मुंबई हमले के मास्टरमाइंड और वैश्विक आतंकी हाफिज सईद को राहत देने के लिए पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र में अर्जी दी है. इसमें हाफिज सईद को उसके  बैंक खाते का इस्तेमाल और पैसे की निकासी की इजाजत मांगी है. पाकिस्तान की इस अर्जी को संयुक्त राष्ट्र समिति ने स्वीकार कर लिया है, जिससे अब हाफिज सईद अपने बैंक खाते का इस्तेमाल कर पाएगा.

बता दें कि पाकिस्तान ने 15 अगस्त को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में एक याचिका दायर की थी. इस याचिका में बताया गया था कि आतंकी हाफिज सईद, हाजी मुहम्मद अशरफ और जफर इकबाल को अपने खर्चे के लिए उनके बैंक खातों का इस्तेमाल करने की इजाजत दी जाए. इस अर्जी पर संयुक्त राष्ट्र समिति ने विचार विमर्श कर इस अर्जी को स्वीकार कर लिया.

अमेरिकी ट्रेजरी विभाग ने 26/11 मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को वैश्विक स्तर पर आतंकवादी घोषित किया था. यहीं नहीं, हाफिज सईद की जानकारी देने वालों के लिए 70 करोड़ रुपए यानी 10 मिलियन डॉलर का इनाम भी है. पाकिस्तान की तरफ से दी गई अर्जी पर संयुक्त राष्ट्र समिति ने अपने पत्र में कहा कि पाकिस्तान के अनुरोध पर कोई आपत्ति नहीं होने पर समिति ने अपील को मंजूरी दे दी.

पाकिस्तानी सरकार ने यूएनएससी प्रस्ताव का अनुपालन करते हुए हाफिज सईद के बैंक अकाउंट्स को फ्रीज कर दिया था. अपनी अर्जी में पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र से अनुरोध किया था कि हाफिज सईद को 1,50,000 पाकिस्तानी रुपए यानी लगभग 1000 डॉलर परिवार के चार सदस्यों के गुजारे के लिए बैंक खातों का इस्तेमाल करने दिया जाए. पाकिस्तान का कहना है कि हाफिज सईद अपने पूरे परिवार का गुजारा अकेला ही चलाता है. ऐसे में उसके बैंक अकाउंट पर लगी पाबंदी को हटा लिया जाए.

एक तरफ जहां पाकिस्तान दुनियाभर में घूम कर आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ने की बात कर रहा है वहीं दूसरी तरफ वह खुद के घर में पल रहे आतंकवादी के भरण पोषण की व्यवस्था भी कर रहा है. मई महीने में पाकिस्तान के आतंकवाद रोधी विभाग ने हाफिज सईद और जमात-उद-दावा के शीर्ष नेताओं पर आतंकियों को पालने तथा उनके संरक्षण के तहत मामला दर्ज किया था जिसके बाद हाफिज सईद को गरिफ्तार भी किया गया था.

(इनपुट- एएनआई)