पेशावर: पाकिस्तान में खैबर-पख्तूनख्वाह प्रांत की असेंबली में सत्तापक्ष और विपक्ष दोनों तरफ के सदस्यों ने हिंदू विधायक बलदेव कुमार को शपथ लेने से रोक दिया. हिंदू विधायक बलदेव सिंह पर आरोप है कि वे वर्ष 2016 में एक सरदार स्वर्ण सिंह की हत्या शामिल थे. जिसके कारण बलदेव जेल में बंद थे. Also Read - जम्मू-कश्मीर में नेताओं पर बढ़े हमले पाकिस्तान की हताशा: भाजपा

दरसअल जेल में बंद बलदेव ने शपथ लेने की इजाजत मांगी थी. जिसे अदालत ने स्वीकार कर लिया. लेकिन जब बलदेव कुमार प्रांतीय असेंबली में पहुंचे तो विपक्षी सदस्यों ने शपथ लेने की इजाजत के स्पीकर के फैसले का विरोध किया. वहीं इमरान खान की पार्टी तहरीक ए इंसाफ के विधायक अरबाब जेहंदाद खान ने बलदेव पर अपना जूता फेंका जो उनके पास गिरा. Also Read - मैनचेस्टर टेस्ट: बटलर-वोक्स की जोड़ी ने कैसे पाकिस्तान के मुंह से छीनी जीत

इसके बाद भी विरोध जारी रहा और पार्टी के अन्य विधायकों ने विधानसभा एजेंडे की प्रतियां बलदेव की तरफ फेंकीं. वहीं बलदेव कुमार ने शपथ लेने से रोके जाने के बाद अदालत से संपर्क किया है. गौरतलब हो कि उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष, सत्ता पक्ष और विपक्षी सदस्यों के खिलाफ अदालत की अवमानना का आरोप लगाकर पेशावर हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. Also Read - इंडियन आर्मी ने पीओके की लीपा वैली में आतंकी लॉन्‍चपैड तबाह किया? वीडियो-फोटो हुए वायरल

वहीं मृतक पुत्र अजय ने रविवार को प्रांतीय सरकार से अपील की थी कि वह तीन मार्च को होने वाले सीनेट चुनाव में इमरान खान की तहरीक ए इंसाफ पार्टी के उम्मीदवार के पक्ष में मतदान के लिए उनके पिता के हत्यारे को प्रांतीय विधानसभा में न लाया जाए. गौरलतब हो कि विधायक स्वर्ण सिंह की अप्रैल 2016 में बुनेर जिले में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.( भाषा इनपुट )