इस्लामाबाद: आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान के लिए थोड़ी राहत की खबर है. स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान (एसबीपी) ने संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) से 1 अरब डॉलर प्राप्त किए हैं, जो पाकिस्तान के बढ़ते चालू खाते के घाटे को पाटने के लिए अबुधाबी विकास फंड (एडीएफडी) से समझौते के बाद मिला है.

पूर्व राष्ट्रपति जरदारी को अभी करना होगा विदेश यात्रा से परहेज, पीएम इमरान ने नहीं हटाई रोक

पाकिस्तान ने सऊदी अरब से मांगी थी मदद
डॉन न्यूज की रिपोर्ट में बताया गया कि एडीएफडी 22 जनवरी को पाकिस्तान को तीन किश्तों में 3 अरब डॉलर की रकम देने के लिए सहमत हुआ था. बैंक के प्रवक्ता आबिद कमर ने यहां गुरुवार को मीडिया को बताया, “एसबीपी को आज यूएई से 1 अरब डॉलर प्राप्त हुआ है.” इससे पहले पाकिस्तान ने भुगतान संकट से निपटने के लिए चीन और सऊदी अरब से मदद की गुहार लगाई थी. पाकिस्तान के चालू खाते का घाटा चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में बढ़कर 7.9 अरब डॉलर हो गया है, जिसके 30 जून तक 16-17 अरब डॉलर तक पहुंचने की संभावना है. इससे पहले पाकिस्तान के वित्त मंत्री असद उमर ने बुधवार को पाकिस्तानी संसद में मिनी-बजट प्रस्तुत करते हुए कहा था कि सरकार अंतराष्ट्रीय मुद्रा कोष की अगुवाई वाले कार्यक्रम को लागू कर सकती है.

हिना ने पाकिस्तान को दिखाया आईना, कहा- अमेरिका से कटोरा लेकर भीख मांगने की बजाय भारत से रिश्ते करे मजबूत

सऊदी अरब से भी मिली मदद
उन्होंने यह भी कहा था कि सरकार जल्दीबाजी में नहीं है और वह द्विपक्षीय मदद के विकल्पों को भी आजमा रही है. पाकिस्तानी सरकार ने इसी प्रकार का 3 अरब डॉलर का सौदा सऊदी अरब के साथ भी किया है और वहां राजशाही ने अब तक एसबीपी के खाते में 2 अरब डॉलर भेजा है, जबकि 1 अरब डॉलर की आखिरी किश्त फरवरी में प्राप्त होने की उम्मीद है. सऊदी अरब ने इसके अलावा पाकिस्तान को 3 अरब डॉलर के कच्चे तेल की आपूर्ति पर भी सहमति जताई है, जिसका भुगतान वह बाद में लेगी. (इनपुट एजेंसी)

पाकिस्तान: डॉक्टर ने कहा- नवाज शरीफ की हालत बेहद गंभीर