इस्लामाबाद: पाकिस्तान में अब आम जनता भी राष्ट्रपति भवन का दीदार कर सकेगी. शनिवार को कड़ी सुरक्षा वाले आलीशान राष्ट्रपति भवन को आम जनता के लिए खोल दिया गया. राष्ट्रपति भवन का आधिकारिक नाम ऐवान-ए-सदर है. यह राजधानी के अति सुरक्षा वाले रेड जोन के कांस्टिट्यूशन एवेन्यू में मारगल्ला हिल्स पर स्थित है. राष्ट्रपति भवन आधुनिक पिरामिड वास्तुकला की शानदार शैली को दर्शाता है. इसके एक ओर प्रधानमंत्री आवास और दूसरी ओर संसद भवन है. Also Read - विपक्ष की रैलियां से डरे इमरान खान, बोले- पूरे पाकिस्तान में लगा दूंगा लॉकडाउन

Also Read - आमिर खान के भांजे और Delhi Belly फेम एक्टर इमरान खान ने एक्टिंग को कहा अलविदा, जानिए फ्यूचर प्लान

कैलिफोर्निया के जंगलों की आग में सब कुछ राख, फिर भी एक महीने तक घर के मलबे की रखवाली करता रहा डॉग Also Read - मरयम नवाज ने पाक की इमरान सरकार को कहा-वो वोट नहीं, बूट के लायक, हम सेना से बात करेंगे

वजीर-ए-आजम ने वादा निभाया

आम लोगों के लिए राष्ट्रपति भवन के दरवाजे खोले जाने के बाद लोगों का हुजूम इस भव्य इमारत के दीदार के लिए उमड़ पड़ा. लोगों में इसे लेकर खासा उत्साह देखने को मिला,  एवान- ए- सदर के दीदार के लिए आए लोगों ने खूब तस्वीरें खींची और खिंचवाई साथ ही इन्हें सोशल मीडिया पर भी साझा किया. राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने वहां पहुंचे लोगों का बेहद गर्मजोशी से स्वागत किया, राष्ट्रपति से हाथ मिलाने और उनके साथ फोटो खिंचवाने के लिए लोगों की होड़ लग गई. राष्ट्रपति अल्वी ने भी इस अवसर को खूब एन्जॉय किया व परिवारों के साथ आए बच्चों का दुलार भी किया.

राष्ट्रपति भवन के प्रवक्ता ताहिर खुशनूद ने कहा कि पहचान पत्र दिखाकर आम लोगों को सुबह नौ बजे से शाम चार बजे तक भवन में प्रवेश की अनुमति है. इमरान खान की तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी ने चुनावों के दौरान सत्ता में आने पर देश की मुख्य इमारतों को आम लोगों के लिए खोलने का वादा किया था. सरकार के उसी वादे को पूरा करने के तहत यह फैसला किया गया है. इमरान सरकार की इस नीति के तहत लाहौर, कराची और पेशावर में गवर्नर हाउस को पहले ही आम लोगों के लिए खोल दिया गया था. गत सितंबर माह में लाहौर में गवर्नर हाउस खुलने के पहले ही दिन 4 हजारों लोगों ने इसका दीदार किया था. लोगों ने अपने वजीर-ए-आजम के वादा निभाने को लेकर उनका (इमरान खान का) शुक्रिया भी अदा किया.

इमरान खान ने अमेरिका से कहा, ”आपकी बंदूक और हमारा कंधा, ये नहीं चलेगा”