लाहौर: तीन बार पाकिस्तान के वजीर-ए-आजम रहे नवाज शरीफ फिलहाल पाकिस्तान के लाहौर के कोट लखपत जेल में सजायाफ्ता हैं. जेल में बंद पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने अपनी सेल की साफ़ सफाई के लिए प्रशासन व पंजाब प्रांत की सरकार से एक आदेशवाहक (सहयोगी) देने का आग्रह किया था. रिपोर्ट के मुताबिक प्रशासन ने पूर्व प्रधानमंत्री को सहयोगी देने से इंकार कर दिया है और कहा कि वह खुद ही अपनी सेल (जेल-कक्ष) की सफाई रखें क्योंकि वो कठोर सजा के अंतर्गत जेल में बंद हैं. Also Read - Pakistan Blast: पाकिस्तान में बम विस्फोट, 5 की मौत, 20 घायल...

Also Read - जम्मू-कश्मीर में नेताओं पर बढ़े हमले पाकिस्तान की हताशा: भाजपा

भ्रष्टाचार में फंसे पाक के पूर्व पीएम नवाज शरीफ का केस क्यों लड़ना चाहता है ये भारतीय नेता? Also Read - मैनचेस्टर टेस्ट: बटलर-वोक्स की जोड़ी ने कैसे पाकिस्तान के मुंह से छीनी जीत

संवेदनशील है शरीफ का मामला

वहीँ इस मुद्दे पर पंजाब प्रांत की सरकार ने भी बुधवार को कहा कि वह पाकिस्तान मुस्लिम लीग(नवाज) के नेता को उनके आदेशवाहक के रूप में एक कैदी मुहैया नहीं करा सकते और इसलिए उन्हें खुद ही अपने कक्ष को साफ करना पड़ेगा. कारागार महानिरीक्षक शाहिद सलीम बेग ने कहा कि शरीफ को अल-आजिजिया स्टील मिल्स/हिल मेटल प्रतिष्ठान मामले में भ्रष्टाचार के लिए 24 दिसंबर को सुनाए गए सात वर्ष की ‘कठोर’ सजा के तहत उन्हें खुद ही अपने कक्ष को साफ रखने के लिए कहा गया है. तीन बार प्रधानमंत्री रह चुके शरीफ को कोट लखपत जेल में एक टीवी सेट, बिछावन, कंबल, हीटर, एक कुर्सी व टेबल दिया गया है. जेल प्रमुख ने कहा कि शरीफ का मामला अति संवेदनशील है इसलिए उन्हें जेल के उनके बैरक से बाहर जाने की इजाजत नहीं दी गई है.

पाकिस्तान: पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बढीं मुश्किलें, 4 नए मामलों की जांच NAB को सौंपी गई