कराची: पाकिस्तान में सॉफ्टवेयर कंपनी में काम करने वाली एक महिला कर्मचारी को हिजाब पहनने से रोकना  कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी को महंगा पड़ गया. सोशल मीडिया में मामले ने इतना तूल पकड़ा कि कंपनी के सीईओ को ही इस्तीफ़ा देना पड़ गया. उन्होंने कंपनी की महिला कर्मचारी से हिजाब या जॉब में से एक चुनने को कहा था.

चीन के बर्ताव ने बढ़ाई भारत और अमेरिका के बीच नजदीकियां: कार्टर

मुस्लिम बहुल देश में पहला मामला
रिपोर्ट के मुताबिक महिला से कहा गया कि या तो वह कार्यस्थल पर हिजाब न पहने या इस्तीफा दे दे. मुस्लिम बहुल देश में इस तरह का यह पहला मामला है. इस घटना के बाद से सोशल मीडिया पर बहस छिड़ गई, जिसके चलते क्रिएटिव केओस कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जवाद कादिर को इस्तीफा देना पड़ा.

लापता पत्रकार मामला: खाशोगी के अवशेष दूतावास से बाहर ले जाने की संभावना: जांच अधिकारी

महिला को उसके लाइन मैनेजर ने बताया कि वह अपनी नौकरी तभी सुरक्षित रख सकती हैं जब वह वह अपना हिजाब पहनना छोड़ेंगी. उन्होंने कहा कि हिजाब पहनने से कंपनी की “सर्वव्यापी” छवि खराब होगी. महिला ने कहा कि अगर वह नौकरी छोड़ती है तो उसके पास दो इस्लामी बैंकों में नौकरी के प्रस्ताव हैं. कादिर ने शुरुआत में एक माफीनामा जारी कर घटना के महत्व को कम बताने की कोशिश की.

कंपनी ने फेसबुक के जरिए जताया खेद
उन्होंने कहा कि महिला से इस्तीफा वापस लेने और अपनी नौकरी सामान्य रूप से शुरू करने को कहा गया. सॉफ्टवेयर कंपनी ने बाद में एक फेसबुक पोस्ट में कहा कि “कार्यस्थल पर भेदभाव” के लिए कादिर से पद छोड़ने को कहा गया. बोर्ड सदस्यों और सहयोगियों को भेजे गए ई-मेल में कादिर ने कहा है कि वह सॉफ्टवेयर कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के पद से इस्तीफा दे रहे हैं. इस ई-मेल का शीर्षक ‘‘मेरा माफी मांगना पर्याप्त नहीं है. हालांकि पाकिस्तान के एक प्रमुख पत्र डॉन ने इसे एक मामूली कंपनी का पब्लिसिटी स्टंट बताते हुए लेख लिखा है. (इनपुट एजेंसी)