लाहौर। पाकिस्तान की एक आतंकवाद निरोधी अदालत ने सात वर्षीय बच्ची से बलात्कार और उसकी हत्या के मामले में शनिवार को एक सीरियल किलर को मौत की सजा सुनाई. देश के इतिहास में यह पहला मौका है जब महज चार दिन में मामले की सुनवाई पूरी कर ली गयी. Also Read - संदीपा धर की 'मुंभाई' में मुंह दिखाई, पुलिस और गैंगस्टर की दोस्ती में फूट डालेगी ये एक्ट्रेस

Also Read - Mirzapur Season 2: श्वेता त्रिपाठी के पास बस एक ही ऑप्शन था बदला लेना, दुश्मनों को गोलियों से भून देना, ऐसे ही नहीं...

कड़ी सुरक्षा के बीच कोट लखपत जेल में एटीसी जज सज्जाद हुसैन ने सजा सुनाई. उन्होंने 23 वर्षीय इमरान अली को बच्ची के अपहरण, नाबालिग से बलात्कार, बच्ची की हत्या और अव्यस्क से अप्राकृतिक कृत्य करने का दोषी पाते हुए मौत की सजा मुकर्रर की. Also Read - प्रकाश जावडेकर का कांग्रेस पर करारा हमला, पूछा- राहुल-प्रियंका कांग्रेस शासित राज्यों में दुष्कर्म की घटनाओं पर चुप क्यों हैं?

ये भी पढ़ें- फ्लोरिडा गोलीबारी: स्कूल की निशानेबाजी टीम का हिस्सा था 17 लोगों को मारने वाला आरोपी छात्र

इमरान को नाबालिग के शव को क्षत विक्षत करने के मामले में सात वर्ष की सजा के साथ दस लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया. इस नृशंस वारदात की पूरे देश में घोर भर्त्सना हुई थी और लोगों में आक्रोश के भाव देखने को मिले थे.