चंडीगढ़: जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद-370 के निरस्त होने के बाद से भारत व पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ा हुआ है. भारत के इस फैसले के बाद से पड़ोसी देश बौखलाया हुआ है और उसने इसी बीच अब पाकिस्तान से भारत में भेजे जाने वाले पोस्टल मेल भेजना बंद कर दिया है. इसके बारे में शनिवार को जानकारी मिली. Also Read - Zimbabwe vs Pakistan, 1st Test: पहले टेस्ट मैच में पाकिस्तान ने जिम्बाब्वे को पारी से हराया, तीन दिन के अंदर जीता मैच

मीडिया रिपोर्टों में भारतीय डाक विभाग के उप-महानिदेशक अजय कुमार रॉय के हवाले से कहा गया है कि पाकिस्तान के सीमा शुल्क विभाग ने 23 अगस्त को अपने एक आदेश में मेलों की आवाजाही पर रोक लगा दी है. यह एकपक्षीय आदेश 27 अगस्त को लागू हुआ. एक रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान से आने वाले पत्रों और प्रकाशनों को पहले सऊदी अरब एयरलाइंस के माध्यम से भारत में भेजा जाता था. चंडीगढ़ स्थित भारत-पाक शांति कार्यकर्ता चंचल मनोहर सिंह ने बताया कि डाक सेवा को रोकना मानव अधिकारों का घोर उल्लंघन है. Also Read - Lockdown In Jammu and Kashmir: राज्य के 11 जिलों में 84 घंटे का लॉकडाउन

उधारी के विमान से पाकिस्तान लौट रहे थे इमरान खान, तकनीकी खराबी के चलते वापस न्यूयॉर्क गए Also Read - Pakistan Covid Updates: पाकिस्तान में कोविड-19 से एक दिन में सबसे अधिक 201 लोगों की मौत

भारत में साहित्यिक दुनिया को एक झटका
भारत व पाकिस्तान के बीच कई प्रतिनिधिमंडलों में शामिल रहे सिंह ने कहा कि यह भारत में साहित्यिक दुनिया को एक झटका है. पंजाब के लोग लाहौर से गुरुमुखी लिपि में प्रकाशित होने वाली त्रैमासिक पत्रिका ‘पंजाब दे रंग’ को पढ़ने के शौकीन थे और अब यह आनी बंद हो गई है. सिंह सोसाइटी फॉर प्रमोशन ऑफ पीस के अध्यक्ष भी हैं. उन्होंने डाक सेवा की तत्काल बहाली की मांग करते हुए कहा कि इससे आम आदमी प्रभावित हो रहे हैं.