इस्लामाबाद: पाकिस्तान ने भारत से तनाव के बीच सतह से सतह पर मार करने वाली और परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम ‘गजनवी’नाम की बैलिस्टिक मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण किया है जिसकी मारक क्षमता 290 किलोमीटर तक की है. यह परीक्षण ऐसे समय किया गया है, जब जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के 5 अगस्त के नई दिल्ली के फैसले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव है.

इससे पहले पाकिस्तान ने मई के शुरू में सतह से सतह पर मार करने वाली ‘शाहीन-2’ बैलिस्टिक मिसाइल का प्रशिक्षण परीक्षण किया था. जनवरी में उसने ‘नस्र’ नाम की बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया था.

पाकिस्तान के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण ने बुधवार को कराची हवाई क्षेत्र के तीन उड़ान मार्गों को 31 अगस्त तक के लिए बंद कर दिया, जिससे ये खबरें आने लगी थीं कि पाकिस्तानी सेना बलूचिस्तान स्थित परीक्षण केंद्र से मिसाइल का परीक्षण कर सकती है.

पाकिस्तानी सेना के मीडिया प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने मिसाइल के रात्रि प्रशिक्षण परीक्षण का वीडियो गुरुवार को टि्वटर पर साझा किया. ‘गजनवी’ नाम की यह मिसाइल 290 किलोमीटर तक अनेक प्रकार के आयुध ले जा सकती है और यह भारत के कई हिस्सों तक पहुंच सकती है.

विशेषज्ञों के मुताबिक, गजनवी मिसाइल उन्नत ‘स्कड’ प्रकार की बैलिस्टिक मिसाइल हो सकती है. मिसाइल के आयुध पारंपरिक, उच्च विस्फोटक और परमाणु हो सकते हैं. गफूर ने कहा कि ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ कमेटी के प्रमुख और सेना के तीनों अंगों के प्रमुखों ने मिसाइल के सफल परीक्षण के लिए विशेषज्ञों की टीम को बधाई दी.

गफूर ने कहा कि पाकिस्तानी राष्ट्रपति आरिफ अल्वी और प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी टीम की सराहना की और देश को बधाई दी.

पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर पर भारत सरकार के फैसले के बाद नई दिल्ली के साथ राजनयिक संबंधों को कमतर कर दिया है और भारतीय उच्चायुक्त को निष्कासित कर दिया है. इस्लामाबाद ने नई दिल्ली के साथ अपने व्यापार को भी निलंबित कर दिया है और ट्रेन और बस सेवाएं भी रोक दी हैं.

भारत जोर देकर कहता रहा है कि अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को हटाना और जम्मू कश्मीर को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटना उसका अंदरूनी मामला है और पाकिस्तान को हकीकत स्वीकार करनी चाहिए.

पाकिस्तान ने परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम मिसाइल का परीक्षण ऐसे समय किया है जब जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के पांच अगस्त के नई दिल्ली के फैसले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव है. पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान कश्मीर पर भारत के फैसले के मद्देनजर बार-बार परमाणु युद्ध के खतरे का राग अलापते रहे हैं.