इस्लामाबाद: आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान को गरीबी से निकालने के लिए कवायद में जुटे वजीर-ए आजम इमरान खान ने कहा कि उनकी सरकार अपने लोगों को गरीबी से बाहर निकालने के लिए चीनी सरकार द्वारा उठाए गए कदमों का अनुसरण कर रही है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, यहां सोमवार को एक समारोह को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री इमरान  ने कहा कि उनकी सरकार द्वारा उठाए गए सभी कदमों का अंतिम लक्ष्य गरीबी खत्म करना है.


रोजगार के अवसर
पाकिस्तान के वजीर-ए-आजम उन्होंने कहा, “हम उद्योगपतियों और कपड़ा क्षेत्र से जुड़े लोगों को प्रोत्साहन देने के लिए नीतियां बना रहे हैं. हमारा मकसद है कि लोग पैसा कमाएं ताकि वे रोजगार के अवसर पैदा कर सकें और लोगों को गरीबी से बाहर निकालने में मदद कर सकें. जैसे चीन ने किया था.” उन्होंने कहा कि चीन ने औद्योगिकीकरण के द्वारा धन का सृजन किया और बाद में इसका उपयोग समाज के निचले तबके के उत्थान के लिए किया. चीन की तरह उनकी सरकार का मुख्य ध्यान गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले लोगों में निवेश कर गरीबी को खत्म करना है. कुछ दिन पहले ही पाकिस्तान को उनकी ही पूर्व विदेश मंत्री ने आर्थिक संकट से निकलने के लिए पड़ोसियों से संबंध सुधारने की सलाह भी दी थी. पूर्व विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार ने कहा था कि उनके मुल्क को आर्थिक, राजनीतिक या सैन्य रूप से अमेरिका पर आश्रित देश रहने के बजाय पड़ोसी देशों के साथ संबंध को मजबूत करना चाहिए.

हिना ने पाकिस्तान को दिखाया आईना, कहा- अमेरिका से कटोरा लेकर भीख मांगने की बजाय भारत से रिश्ते करे मजबूत