नई दिल्ली| पाकिस्तान की एक भ्रष्टाचार निरोधक अदालत ने भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ, उनकी बेटी और दामाद को दोषी ठहराया. पाकिस्तान की भ्रष्टाचार निरोधक अदालत ने अपदस्थ प्रधानमंत्री नवाज शरीफ, उनकी बेटी मरियम और दामाद मोहम्मद सफदर के खिलाफ पनामा पेपर मामले में वकीलों के हंगामे के बाद आरोप तय करने की कार्यवाही 19 अक्तूबर तक स्थगित कर दी थी.

‘राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो’ (एनएबी) ने शरीफ, उनके परिवार के सदस्यों और वित्त मंत्री इशाक डार के खिलाफ इस्लामाबाद जवाबदेही अदालत में भ्रष्टाचार और धन शोधन के तीन मामले दर्ज किए थे.

मरियम गिरफ्तार हुई थी
मरियम नवाज को अपने खिलाफ राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो द्वारा (एनएबी) लंदन में परिवार के स्वामित्व वाली संपत्तियों से संबंधित में गिरफ्तार भी होना था. 9 अक्टूबर को लंदन से इस्लामाबाद पहुंचने पर एनएबी की टीम ने मरियम और उनके पति मुहम्मद सफदर (सेवानिवृत्त) को हिरासत में ले लिया था. बाद में उन्हें जमानत मिल गई थी.

पाकिस्तना की सुप्रीम कोर्ट ने 28 जुलाई को पनामा पेपर कांड में नाम आने के बाद शरीफ को प्रधानमंत्री पद से अयोग्य घोषित कर दिया था. उनके अपदस्थ होने के हफ्तों बाद ये मामले दर्ज किए गए थे.

हाल ही में न्यायाधीश मोहम्मद बशीर की अदालत में कार्यवाही शुरू होने से पहले वकीलों ने सुरक्षा इंतजामों का विरोध शुरू कर दिया जिसने अदालत परिसर में उनकी आवाजाही पर बंदिश लगा दी थी.
(एजेंसी इनपुट)