इस्लामाबाद: पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा का कहना है कि देश के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना का दो राष्ट्र का सिद्धांत आज के वक्त में और अधिक स्वीकार्य वास्तविकता है. बाजवा ने जिन्ना की 143वीं जयंती पर बुधवार को कराची में उनके मकबरे पर यह बात कही.

उन्होंने कहा, ‘‘दो राष्ट्र के सिद्धांत के आधार पर पाकिस्तान का गठन करने की जिन्ना की सोच आज और अधिक स्वीकार्य वास्तविकता है. हमें पाकिस्तान देने के लिए हम उनका कितना भी शुक्रिया अदा करें, वह कम ही होगा.’’

बाजवा ने कहा कि मुश्किल वक्त में अल्पसंख्यकों समेत सभी पाकिस्तानी साथ आए हैं. उन्होंने कहा कि जिन्ना का दृष्टिकोण ‘‘आस्था, एकता और अनुशासन’’ के सिद्धांतों के साथ पाकिस्तान को आगे ले जाने के लिए लोगों को प्रेरित करता रहेगा. ये पहला मौका नहीं है, जब पाकिस्तान की ओर से इस तरह का बयान आया हो. इससे पहले भी पाकिस्तान में टू नेशन थ्योरी का समर्थन किया जा चुका है.

मोहम्मद अली जिन्ना का जन्म 25 दिसंबर 1876 को कराची में हुआ था. जबकि देहांत 11 सितंबर 1948 को कराची में हुआ. पाकिस्तान में जिन्ना को कायदे आज़म कहा जाता है. जिन्ना ने 1913 में ऑल इंडिया मुस्लिम लीग बनाई थी. आज़ादी की लड़ाई के बीच जिन्ना ने अलग मुस्लिम देश की मांग की और काफी जद्दोजहद के बाद पाकिस्तान भारत से अलग देश हो गया.