लाहौर: पाकिस्तान ने मंगलवार को अपने परमाणु परीक्षण की 21वीं जयंती मनाई और इस मौके पर जेल में बंद पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कहा कि देश को परमाणु शक्ति संपन्न बनाने के उनके फैसले ने उसकी सुरक्षा को अपराजेय बना दिया.

पाकिस्तान ने 28 मई 1998 को शरीफ के प्रधानमंत्री रहते बलूचिस्तान प्रांत के चागी में पांच परमाणु परीक्षण किए थे. तब से इस दिन को पाकिस्तान में यौम-ए-तकबीर के तौर पर मनाया जाता है.

भारत द्वारा 11 मई 1998 को पोकरण में सफलतापूर्वक परमाणु परीक्षण करने के कुछ दिन बाद पाकिस्तान ने भी परमाणु परीक्षण किया था.

पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) सुप्रीमो ने पार्टी के ट्विटर हैंडल पर साझा किए गए एक संदेश में कहा है, “28 मई पाकिस्तान के इतिहास में कभी न भूली जाने वाली तारीख है. इस दिन पाकिस्तान की सुरक्ष को अजेय बनाया गया, जब दुनिया के नक्शे पर पाकिस्तान एक परमाणु शक्ति के तौर पर उभरा.”