Pegasus spying scandal: पेगासस जासूसी कांड में एनएसओ समूह के खिलाफ गलत काम करने के आरोपों की इजराइल ने जांच शुरू कर दी है. कई सरकारों द्वारा इसके स्पाईवेयर के गलत इस्तेमाल के आरोपों पर अधिकारियों ने साइबरसिक्योरिटी कंपनी के कार्यालय की जांच की.Also Read - Pegasus Case: सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को लगाई फटकार-अबतक एफिडेविट दाखिल क्यों नहीं किया, मिला ये जवाब

कई निकायों के प्रतिनिधियों ने बुधवार को एनएसओ कार्यालय का दौरा कर इस सिलसिले में लगाए गए आरोपों की जांच की. यह जानकारी इजराइल के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने दी. विस्तृत जानकारी मांगने पर उन्होंने कहा कि ‘‘इस वक्त हम विस्तार से जानकारी नहीं दे रहे हैं.’’ Also Read - Pegasus Snooping Controversy: सोमवार को पेगासस जासूसी मामले पर सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट, जानिए क्या बोली सरकार

स्थानीय मीडिया ने खबर दी कि जो निकाय जांच कर रहे हैं उनमें रक्षा मंत्रालय का निर्यात नियंत्रण संभाग और राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद् है जिसे जरूरत पड़ने पर जांच के लिए अधिकृत किया गया है. खबरों के मुताबिक जांच का केंद्र यह है कि क्या कंपनी ने रक्षा मंत्रालय के निर्यात नियंत्रण विभाग द्वारा दिए गए परमिट एवं शक्तियों के मुताबिक काम किया. Also Read - पेगासस विवाद: सुप्रीम कोर्ट में विस्तृत हलफनामा दाखिल करेगा केंद्र, 13 सितंबर को होगी सुनवाई

पेगासस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल भारत सहित कई देशों में पत्रकारों, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं, नेताओं एवं अन्य की जासूसी करने के आरोपों से निजता से जुड़े मुद्दों को लेकर चिंता उभरी है.

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युएल मैक्रों के खिलाफ स्पाईवेयर के इस्तेमाल की खबरों के बीच इजराइल के रक्षा मंत्री बेनी गांत्ज ने बुधवार को पेरिस का दौरा किया ओर अपने फ्रांसीसी समकक्ष फ्लोरेंस पार्ली को आश्वासन दिया कि यरूशलम मुद्दे को ‘‘गंभीरता’’ से ले रहा है.

(इनपुट भाषा)