ताइपे: तीन फरारी कारों में टक्कर मारने वाले एक ताईवानी डिलीवरी ड्राइवर की कहानी और गाड़ी की मरम्मत संबंधी भारी भरकम बिल के बारे में जब लोगों को पता चला तो उन्होंने उसके लिए खुलकर दान दिया. दरअसल, रविवार सुबह ताईपे से ऊपर एक पहाड़ी रास्ते पर जब लिन चीन-सियांग मंदिरों में धूपबत्ती पहुंचाकर अपनी गाड़ी हटा रहा था, तभी उसकी गाड़ी फरारी कारों से टकरा गई. हालांकि उसकी गाड़ी बच गई लेकिन सड़क के किनारे खड़ी फरारी कारों को बड़ा नुकसान पहुंचा.

सिविल सेवा परीक्षा में सामान्य श्रेणी के उम्मीदवारों की आयु-सीमा घटाकर 27 करने की तैयारी

मृदुभाषी 20 साल के लड़के ने गुरुवार को कहा, ”मुझे निश्चित ही झपकी आ गई होगी, मुझे पक्का याद नहीं कि क्या हुआ.” उसकी राजधानी में धूपबत्ती की एक दुकान है, जहां वह अपनी मां के साथ काम करता है. उसने कहा, मैं नुकसान का भुगतान करने के लिए कड़ी मेहनत करूंगा.

वैसे तो इस दुर्घटना में कोई हताहत नहीं हुआ, लेकिन उसके सामने एक भारी भरकम बिल चुकाने की जिम्मेदारी आ गई है. यह राशि उसकी कार की बीमा राशि से काफी अधिक है.

Rs.5 करोड़ की फिरौती केस: 6 दिन पूछताछ के बाद भय्यू महाराज के पूर्व ड्राइवर समेत तीन आरोपी जेल पहुंचे

स्थानीय मीडिया के अनुसार, फरारी डीलरों ने कहा कि वाहनों की मरम्मत पर 390,000 डालर का खर्च आएगा. लिन को इस रकम को चुकाने में दशकों लग लग जाएंगे. लेकिन अब उसकी मदद के लिए कई लोग आगे आए हैं. शहर प्रशासन ने कहा कि अब तक उसके लिए 26,400 डालर का चंदा आ चुका है. ज्यादातर दानकर्ताओं को इस लड़के की स्थिति पर दया आ गई.

अन्नाद्रमुक, टीडीपी और वाईएसआर कांग्रेस के सदस्यों ने संसद भवन परिसर में प्रदर्शन किया

लिन ने कहा कि उसे अपनी मां को दुकान चलाने में मदद के लिए कॉलेज की पढ़ाई छोड़नी पड़ी. उसके पिता पांच साल पहले गुजर गए. उसने एक रेस्तरां में एक नौकरी भी कर ली थी. लिन की मां के मुताबिक, हादसे के दिन उनके बेटे ने रेस्तरां में तड़के तीन बजे तक काम किया था. वह महज थोड़ी देर सोया और फिर करीब सुबह पांच बजे धूपबत्ती पहुंचाने में जुट गया.