फाइजर और बायोएनटेक एक नए समझौते के तहत अमेरिका को कोविड-19 टीके के 10 करोड़ अतिरिक्त डोज की आपूर्ति करेगा. दवा कंपनियों ने बुधवार को कहा कि अमेरिका को टीके के सभी डोज 31 जुलाई तक मिलने की संभावना है. फाइजर का अमेरिका के साथ पहले से ही उसे टीके के 10 करोड़ डोज देने का समझौता है. Also Read - सीएम केजरीवाल ने दिया बयान- वैक्सीन पर न फैलाएं भ्रम, दिल्लीवालों का मुफ्त में होगा टीकाकरण

फाइजर का टीका अमेरिका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) से मंजूरी पाने वाला कोविड-19 का पहला टीका है और उसकी पहली खेप पिछले ही सप्ताह यहां आयी है. इसके अलावा मॉडेरना के टीके को भी मंजूरी मिल सकती है, इस टीके को नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के वैज्ञानिकों के साथ मिलकर विकसित किया गया है. Also Read - देश के इन शहरों तक पहुंची कोरोना की वैक्सीन, जानें रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया और कीमत

मॉडेरना का टीका सरकार के अपने प्रयासों के तहत विकसित किया गया है. इस योजना का नाम ‘ऑपरेशन रैप स्पीड’ है. पीपीपी के तहत विकसित इस टीके को एफडीए से मंजूरी मिलते ही वह भी करोड़ों डोज की आपूर्ति करने के लिए तैयार है. Also Read - COVID-19 Vaccine Dry Run News Update: देश के 33 राज्‍यों के 736 जिलों में कोरोना वैक्‍सीन का ड्राई रन, चेन्‍नई में डॉ. हर्षवर्धन ने ल‍िया जायजा

फाइजर के साथ टीके की आपूर्ति के लिए हुए समझौते के साथ ही अमेरिका प्रत्येक नागरिक को टीका उपलब्ध कराने के लक्ष्य के काफी करीब पहुंच गया है.

कोरिया युद्ध के दौरान अमेरिका में बने एक कानून को टीके के उत्पादन के लिए प्रभावी किया जा सकता है. इस कानून के तहत सरकार निजी कंपनियों को राष्ट्रीय आपात स्थिति के दौरान आवश्यक सामग्री के उत्पादन का आदेश दे सकती है. आशा की जा रही है कि इस कानून के तहत फाइजर को टीके के उत्पादन के लिए आवश्यक कच्चा माल समय पर जुटाने में मदद मिलेगी.