जेरेमी कॉर्बिन (Jeremy Corbyn) के भाई पियर्स कॉर्बिन (Piers Corbyn) को लंदन में एक मार्च का आयोजन करना महगा पड़ गया. यहां कोरोना महामारी के दौरान भीड़ के इकट्ठा किए जाने को लेकर उनपर 10,000 पाउंड का जुर्माना लगाया गया है. इस रैली में यह दावा किया जा रहा था कि कोरोना वायरस असल में कोई महामारी नहीं बल्कि एक धोखा है. Also Read - Lockdown News: कोरोना के बढ़ते कहर के बाद यहां लगाया गया लॉकडाउन, जानें क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद?

बता दें कि पियर्स कॉर्बिन मौसम वैज्ञानिक हैं. उन्होंने एंटी लॉकडाउन मार्च में 10,000 से अधिक लोगों को इकट्ठा कर लिया था. इस दौरान पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया और पूछताछ के लिए लेकर चले गए. इस बाबत पियर्स कॉर्बिन ने बताया कि उनसे 10 घंटे लंबी पूछताछ चलती रही और इस दौरान उन्हें थप्पड़ भी मारा गया. Also Read - India Covid-19 live Updates: देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 59 लाख के पार, 93 हजार से ज्यादा की जा चुकी है जान...

बता दें कि पूरे इंग्लैंड में नए लॉकडाउन के नियम लागू हो चुके हैं. ऐसे में 30 से अधिक लोगों को इस बाबत तैनात किया गया था कि वे किसी भी तरह के सभा या मार्च को रोक सके. ऐसे में पूर्व लेबर पार्टी के जेरेमी कॉर्बिन के भाई पियर्स कॉर्बिन ने मार्च में जनसभा को संबोधित किया. पियर्स ने दावा किया कि कोरोना वायरस का मामला 5जी मोबाइल नेटवर्क से जुड़ा है नाकि यह कोई वायरस है. बता दें कि इसी बाबत भीड़ इंग्लैंड की सड़कों पर एकत्र हुई थी. ऐसे में 30 से अधिक समूहों पर अब प्रशासन द्वारा भारी जुर्माना लगाया जा रहा है. Also Read - School Reopening Latest News: इस राज्य में 5 अक्टूबर से खुलेंगे स्कूल, शिक्षा मंत्री ने बच्चों की सेफ्टी को लेकर कही ये बात