स्पेन| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज स्पेन में अपने समकक्ष मरियानो राजोए से मोनक्लोआ पैलेस में मुलाकात की और उन्हें कहा कि भारत और स्पेन को प्रभावित करने वाले आतंकवाद से लड़ने के लिए दोनों देशों को द्विपक्षीय सहयोग मजबूत करना चाहिए. मोदी ने राजोए के साथ निजी बातचीत में आतंकवाद से लड़ने में द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने का आह्वान करते हुए कहा कि हम दोनों के ही देशों ने सुरक्षा संबंधी चुनौती का सामना किया है.

स्पेन में हाल ही में आई एक सरकारी रिपोर्ट में कहा गया कि इस्लामिक स्टेट समूह स्पेनिश में अपनी सामग्री प्रकाशित करता रहा है, जिसका अर्थ यह है कि हमारे देश में रहने वाले चरमपंथियों पर उसका प्रभाव बढ़ने के खतरे में वृद्धि हुई है.

मोदी ने स्पेन के अपने समकक्ष की सराहना करते हुए कहा कि राजोए के नेतृत्व में देश में ऐसे आर्थिक सुधार हुए हैं, जो मेरी सरकार के लिए भी सबसे बड़ी प्राथमिकता हैं. उन्होंने कहा कि आज के परिदृश्य में स्पेन में उनकी चर्चाएं अंतरराष्ट्रीय घटनाक्रमों पर केंद्रित होंगी.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने ट्वीट कर बताया कि मैड्रिड पहुंचने पर स्पेन के वित्तमंत्री ने मोदी का जबरदस्त स्वागत किया. बागले ने इस बैठक को बहुआयामी संबंध के लिए ताजा प्रोत्साहन बताया.

मोदी ने कहा कि रेलवे, स्मार्ट सिटी और अवसंरचना क्षेत्र भारत के लिए प्राथमिकता वाले क्षेत्र हैं और भारत की इन जरूरतों को पूरा करने के लिए स्पेन के पास पर्याप्त कौशल और महारथ है. मोदी ने कहा कि उन्हें इस बात का यकीन है कि उनकी स्पेन यात्रा द्विपक्षीय संबंधों को एक नई गति देगी.

वर्ष 1988 के बाद मोदी स्पेन की यात्रा करने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं. आज शाम को मोदी स्पेन के राजा फेलिप षष्टम से मुलाकात करेंगे और भारत में निवेश लाने के लिए स्पेन के कारोबारी नेताओं के साथ गोलमेज वार्ता भी करेंगे.

स्पेन की राजधानी मैड्रिड में भारत और स्पेन के प्रधानमंत्री एक-दूसरे से बात करते हुए..

दोनों देशों के बीच हुए ये 7 समझौते

मोदी की यात्रा के दौरान दोनों देशों ने सात समझौतों पर दस्तखत  किए हैं. दोनों पक्षों में सजा पाए लोगों के हस्तांतरण के करार और राजनयिक पासपोर्ट धारकों के लिए वीजा छूट संबंधी करार पर भी दस्तखत किए गए.

इसके अलावा दोनों देशों ने अंग प्रत्यारोपण, साइबर सुरक्षा, अक्षय उर्जा, नागर विमानन क्षेत्र पर सहमति ज्ञापन (एमओयू) पर दस्तखत किए. एक समझौता भारत के विदेश सेवा संस्थान तथा स्पेन की डिप्लोमैटिक अकादमी के बीच भी हुआ. यूरोपीय संघ में स्पेन भारत का सातवां सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है. दोनों देशों का द्विपक्षीय व्यापार 2016 में 5.27 अरब डॉलर रहा.

साथ ही मोदी ने स्पेन की बुनियादी ढांचा, पर्यटन, उर्जा और रक्षा क्षेत्र की कंपनियों को भारत में निवेश का न्योता देते हुए कहा कि स्पेन की कंपनियों के लिए यह भारत में निवेश का एक अच्छा समय है.