लंदन: पीएनबी से जुड़े 13,500 करोड़ रुपये के धोखाधड़ी मामले में भारत में वांछित भगोड़े हीरा व्यापारी नीरव मोदी ने पांचवीं बार जमानत के लिए आवेदन किया. नीरव का दावा है कि वह बेचैनी और अवसाद से पीड़ित है. नीरव मोदी ने अपनी निरंतर हिरासत के खिलाफ लंदन की एक अदालत में जमानत याचिका दायर करते हुए घर में ही हिरासत में रखने की अपील की. लेकिन, अदालत ने नीरव की याचिका खारिज करते हुए उसकी हिरासत 11 नवंबर तक बढ़ा दी.

48 वर्षीय व्यवसायी को 19 मार्च को होलबोर्न से गिरफ्तार किया गया था. पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने आरोप लगाया था कि नीरव मोदी और उसके चाचा मेहुल चोकसी ने कुछ बैंक कर्मचारियों की संलिप्तता के साथ 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की है. इसके बाद प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा इस मामले की जांच की जा रही है.

माल्या-नीरव मोदी के बाद सरकार अलर्ट, डिफॉल्टरों को भागने से रोकने के करेगी उपाय

नीरव मोदी पर भगोड़े आर्थिक अपराधी अधिनियम (एफईओ) के तहत भी आरोप लगे हैं. ईडी ने चोकसी के खिलाफ मुंबई में धन शोधन निवारण अधिनियम अदालत में आरोपपत्र दायर किया है.