नई दिल्लीः चीन से उपजे कोरोना वायरस ने इन दिनों पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले रखा है. इस महामारी (Coronavirus Epidemic) का सबसे अधिक प्रभाव सुपरपावर देश अमेरिका पर पड़ा है, जहां अभी तक 1 लाख से अधिक लोग इस महामारी के चलते अपनी जान गंवा चुके हैं और 17 लाख से अधिक इस महामारी की चपेट में आ चुके हैं. ऐसे में अमेरिका (America) लगातार चीन (China) को इस संक्रमण के पीछे की वजह बताते आ रहा है.Also Read - Tokyo Olympics 2020 Medal Count (29 July) : जापान, अमेरिका को पछाड़ चीन बना नंबर-1, भारत को दूसरे पदक का इंतजार, टॉप-10 लिस्‍ट

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) साफतौर पर कोरोना वायरस को चायनीज वायरस कह चुके हैं. कोरोना के चलते देश में खराब होते हालातों के कारण अब अमेरिकी राष्ट्रपति ने चीन के खिलाफ सख्त फैसले लेना शुरू कर दिया है. राष्ट्रपति डोनाल्ट ट्रंपन अब अमेरिका में चाइनीज एयरलाइंस की उड़ानों पर रोक लगाने का फैसला लिया है. Also Read - Baal Ki Chori: इंदौर से कोलकाता भेजे जा रहे बालों की हो गई चोरी, कीमत जानकर उड़ जाएंगे होश

कोरोना के कारण अब अमेरिका और चीन में तनाव धीरे-धीरे बढ़ता जा रहा है. हाल ही में अमेरिका ने कोरोना वायरस के पीछे चीन की भूमिका की जांच की मांग की थी, उसके बाद अमेरिकी यूनिवर्सिटी में चीनी नागरिकों के प्रवेश पर रोक और अब डोनाल्ड ट्रंप ने चार चीनी पैसेंजर एयरलाइन्स के अमेरिका में आने पर रोक लगा दिया है. अमेरिका के ट्रांसपोर्टेशन विभाग ने बताया कि 16 जून से यह आदेश लागू होगा. Also Read - शी चिनपिंग का तिब्बत दौरा भारत के लिए एक खतरा: अमेरिकी

ट्रांसपोर्टेशन डिपार्टमेंट ने इसके लिए चीनी सरकार को जिम्मेदार ठहराया है. दरअसल, चीन ने इस हफ्ते अमेरिका की यूनाइटेड एयरलाइन और डेल्टा एयरलाइन की फ्लाइट्स को लैंडिंग की इजाजत नहीं दी थी. इन फ्लाइट्स पर कोरोना वायरस के प्रसार के बाद बंद किया गया था, जिसके बाद इन्हें दोबारा शुरू किया जाना था. ऐसे में अब अमेरिका ने फैसला किया है कि चीन की एयर चाइना, चाइना दक्षिण एयरलाइन्स, चाइना ईस्टर एयरलाइन्स कॉर्प और हैनन एयरलाइन्स होल्डिंग पर अमेरिका में रोक लगा दी है.