नई दिल्‍ली: दुनियाभर में महामारी कोरोना वायरस से छाए काले बादलों के बीच ब्रिटेन के शाही परिवार के सदस्‍य व राजगद्दी के उत्‍तराधिकारी प्रिंस चार्ल्स को कोविड-19 से संक्रमित पाए गए हैं. यह जानकारी ब्रिटिश रॉयल पैलेस की ओर से दी गई है. Also Read - Coronavirus Effect: लॉकडाउन के चलते बिजली वितरण कंपनियों को बिल के भुगतान में तीन महीनें की मोहलत

क्लेरेंस हाउस कार्यालय ने कहा कि महारानी एलिजाबेथ के सबसे बड़े बेटे प्रिंस चार्ल्स (71) में हल्के लक्षण दिखाए दिए हैं और उनकी तबीयत ठीक है. Also Read - COVID-19 का नकली इलाज बेच रहा था यह 'आयरन मैन 2' स्टार, FBI ने किया गिरफ्तार

टेलीग्राफ की खबर के अनुसार चार्ल्स की पत्नी कैमिला (72) की कोरोना वायरस की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है. दोनों स्कॉटलैंड में अलग थलग रह रहे हैं. खबर में कहा गया है, ‘एबरडीनशर में नेशनल हेल्थ सर्विस ने उनकी जांच की प्रिंस चार्ल्स कोरोना पॉजिटिव.’ ब्रिटेन में अब तक कोरोना वायरस के संक्रमण से 422 लोगों की मौत हो चुकी है. Also Read - COVID19: मुंबई की यह मुस्लिम फैमिली हर रोज 800 से ज्‍यादा भूखे लोगों को फ्री खाना खिला रही

ब्रिटेन में अब तक कोरोना से 422 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं, कोरोना वायरस संक्रमण से मौत के मामले में स्पेन ने चीन को पीछे छोड़ा दिया है. इस यूरोपीय देश में कुल 3,434 लोगों की मौत हो गई है. यह बात स्पेन सरकार ने अपने बयान में कही है.

कोरोनावायस से अब तक दुनिया के जिन देशों में 1000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है, उनमें इटली, चीन, स्पेन, ईरान और फ्रांस है.

ब्रिटेन में कोरोना से 422 लोगों की मौत
बता दें कि ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन द्वारा घातक कोरोना वायरस के प्रसार पर रोक के लिए देश में तीन सप्ताह के लॉकडाउन की घोषणा पहले ही कर चुके हैं. एक दिन पहले तक, देश में कोविड -19 से मरने वालों की संख्या बढ़कर 335 हो गई थी  और अब तक कोरोना से 422 लोगों की मौत हो चुकी है.

रक्षा करें और जीवन को बचाएं
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ने मंगलवार को गैर-जरूरी सामान बेचने वाली दुकानों को तत्काल बंद करने की घोषणा की और कहा कि लोगों को केवल बुनियादी जरूरतों के लिए अपने घर छोड़ने की अनुमति दी जाएगी. उन्होंने कहा था, ”हम कोरोना वायरस को हरा देंगे और हम इसे एकसाथ मिलकर हराएंगे. इसलिए मैं आपसे राष्ट्रीय आपातकाल के इस क्षण में आग्रह करता हूं कि आप घर पर रहें, हमारी एनएचएस (राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा) की रक्षा करें और जीवन को बचाएं.”

पूरी दुनिया में 2.6 अरब लोगों से लॉकडाउन का पालन करने की अपील
भारत द्वारा कोरोना वायरस से लड़ने के लिए लॉकडाउन उपायों को लागू किए जाने के साथ ही पूरी दुनिया की 2.6 अरब से अधिक आबादी प्रतिबंधों के दायरे में आ गई है. संयुक्त राष्ट्र के अनुसार साल 2020 में विश्व की आबादी 7.8 अरब है और विश्वभर में लॉकडाउन होने के बाद 2 .6 अरब से अधिक आबादी अपने अपने घरों में कैद हो गई है.

विश्व के करीब 42 देशों में लॉकडाउन
ब्रिटेन, फ्रांस, इटली और स्पेन, अमेरिका के कोलंबिया, नेपाल, इराक और मेडागास्कर समेत विश्व के करीब 42 देशों में लॉकडाउन शुरू हो चुका है. भारत और न्यूजीलैंड इस सूची में शामिल होने वाले सबसे नए देश हैं. इन अधिकतर देशों में लोग अभी भी काम पर जाने, भोजन या जरूरत का अन्य सामान खरीदने या डाक्टरों के पास जाने के लिए घरों से बाहर निकल रहे हैं.

कुल आबादी करीब 22 करोड़ 26 लाख
कम से कम पांच देशों ने अपने अपने नागरिकों से कहा है कि वे घरों के भीतर ही रहें और अपनी आवाजाही को सीमित कर
दें. इन देशों की कुल आबादी करीब 22 करोड़ 26 लाख है. हालांकि अभी इन देशों ने अपने नागरिकों पर इसे जबरन लागू
नहीं किया है और न ही किसी प्रकार की सजा की चेतावनी ही दी है. इन देशों में ईरान, जर्मनी और कनाडा शामिल हैं।

15 देशों ने अपने अपने क्षेत्रों में शाम कर्फ्यू लगा
हालांकि कम से कम 15 देशों ने अपने अपने क्षेत्रों में शाम कर्फ्यू लगा दिया है. इन देशों में करीब 18 करोड़ 90 लाख की
आबादी है. इनमें सउदी अरब, आइवरी कोस्ट, चिली, फिलीपीन की राजधानी मनीला और सर्बिया शामिल हैं. मिस्र में बुधवार से कर्फ्यू लागू हो जाएगा. कुछ देशों ने अपने मुख्य नगरों को सील कर दिया है जहां आवाजाही पर पूरी तरह रोक है. इनमें बुल्गारिया का सबसे बड़ा शहर अल्माटी, कजाख्स्तान में नूर सुल्तान तथा अजरबैजान में बाकू शहर शामिल है. इन सभी देशों की कुल आबादी करीब एक करोड़ से ज्यादा है.