नई दिल्लीः राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने सऊदी अरब की दो दिवसीय यात्रा कर वली अहद (क्राउन प्रिंस) मोहम्मद बिन सलमान को जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा वापस लेने के बाद वहां के हालात से अवगत कराया. आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी. सूत्रों ने कहा कि सऊदी अरब की ओर से डोभाल से कहा गया कि वह कश्मीर पर लंबे समय से चले आ रहे नई दिल्ली के रुख से वाकिफ है और उसके फैसले को हम समझते हैं. सऊदी अरब ने भारत पाकिस्तान के बीच तनाव कम करने की जरूरत पर जोर दिया. यह वार्ता लगभग दो घंटे तक चली.

70 साल चली कानूनी लड़ाई में पाकिस्तान की करारी शिकस्त, भारत के पक्ष में आया फैसला

डोभाल मंगलवार को सऊदी अरब पहुंचे थे. डोभाल और सलमान ने द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर भी चर्चा की जिसमें पिछले महीने सऊदी अरब के तेल प्रतिष्ठानों पर हुए मिसाइल तथा ड्रोन हमलों और आतंकवाद रोधी सहयोग को बढ़ावा देने जैसे मुद्दे शामिल हैं. सऊदी अरब भारत की ऊर्जा सुरक्षा का एक प्रमुख स्तंभ है, जो कच्चे तेल का 17 प्रतिशत या उससे अधिक का स्रोत है और भारत की एलपीजी आवश्यकताओं के 32 फीसदी की पूर्ति करता है.

नहीं चली पाक की मनमानी, शुरू करनी पड़ी हिंदू छात्रा की मौत की न्यायिक जांच, परिजनों को भेजा गया नोटिस

आपको बता दें कि इससे पहले न्यूयॉर्क जाते समय इमरान ने रियाद में दो दिन बिताए थे और अपनी पत्नी बुशरा बीबी के साथ मक्का में उमरा किया था. इसके बाद सऊदी अरब और पाकिस्तान के बीच मजबूत संबंधों पर प्रकाश डालने के प्रयास में वह प्रिंस के विशेष विमान से ही न्यूयॉर्क गए थे. डोवाल ने सऊदी अरब में अपने समकक्ष मुसैद अल ऐबान के साथ भी बैठक की. मुसैद सऊदी अरब के काउंसिल ऑफ पॉलिटिकल एंड सिक्योरिटी अफेयर्स तथा नेशनल साइबर सिक्योरिटी अथॉरिटी के चेयरमैन भी हैं.