नई दिल्ली: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पुलवामा हमले को लेकर भारत को खुली धमकी दी है. पीएम इमरान खान ने कहा कि वह भारत के हर हमले का जवाब देने के लिए तैयार हैं. उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ भारत के आरोपों पर सवाल उठाया और कहा कि उनका देश स्थिरता चाहता है ना कि आतंकवाद. अगर पुलवामा हमले पर भारत के पास सबूत है या खुफिया जानकारी है तो वह हमसे साझा करे. मैं आपको यकीन दिलाता हूं कि हम कार्रवाई करेंगे. अगर भारत पाकिस्तान पर हमला करने के बारे में सोच रहा है तो हम निश्चित रूप से इसका जवाब देंगे. कोई दूसरा विकल्प नहीं होगा. Also Read - पाक से राजस्थान आए करीब 700 लोग 'लापता', केंद्र ने राज्य सरकार को दिए तलाशने के निर्देश

पीएम इमरान खान ने कहा कि अगर भारत को लगता है कि वह हम पर हमला कर देगा और हम पलटकर जवाब नहीं देंगे? हम हर हमले का जवाब देंगे. उन्होंने कहा कि लड़ाई शुरू करना इंसान के हाथ में है लेकिन यह कब खत्म होगा केवल भगवान जनता है. इस मसले का हल बातचीत से निकाला जाना चाहिए. Also Read - आर्थिक गलियारे का एक चौथाई काम भी नहीं हुआ है पूरा, क्यों चीन के आगे लाचार है पाकिस्तान?

बता दें कि इससे पहले भारतीय सेना ने कहा है कि पुलवामा आतंकवादी हमले की साजिश जैश-ए-मोहम्मद तथा पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने रची थी और बंदूक उठाने वालों को बख्शा नहीं जाएगा. हमले के पांच दिन बाद सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को यह बात कही.पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकवादी हमले में सरआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. चिनार कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल के जे एस ढिल्लन ने कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक एस पी पाणि और सीआरपीएफ के महानिरीक्षक जुल्फिकार हसन के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में यह बात कही. Also Read - पाकिस्तान में पोलियो टीकाकरण टीम पर हमले में एक पुलिसकर्मी की मौत, क्‍या है अमेरि‍की र‍िपोर्ट और लादेन का कनेक्‍शन

ढिल्लन ने कहा कि उन्होंने सभी कश्मीरी आतंकवादियों की माताओं से कहा है कि वे अपने बेटों को आत्मसमर्पण करने के लिए तैयार करें. अधिकारी ने कहा, ‘बंदूक उठाने वाले किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा. ढिल्लन के अनुसार सुरक्षाबल 14 फरवरी को हुए हमले के बाद से ही जैश के शीर्ष आकाओं का पता लगा रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘हमने पुलवामा हमले को अंजाम देने वाले शीर्ष कमांडर को ढेर कर दिया है. पुलवामा जिले के पिंगलान क्षेत्र में सोमवार को 16 घंटे तक चली मुठभेड़ में जैश के तीन आतंकवादी ढेर कर दिए गए. वहीं, सेना का एक मेजर और पांच अन्य लोग भी मुठभेड़ में मारे गए. मुठभेड़ 14 फरवरी को हुए हमले की जगह से करीब 12 किलोमीटर दूर हुई थी.