नई दिल्ली| अमेरिका द्वारा लगाए गए प्रतिबंधो का रूस ने कड़ा जवाब दिया है. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि अमेरिका के 755 राजनयिकों को रूस से हटना होगा. पुतिन ने साथ ही यह चेतावनी भी दी कि हो सकता है कि वॉशिंगटन के साथ लंबे समय तक संबंधों में सुधार नहीं हो. Also Read - जो बाइडन ने अमेरिका में वैध आव्रजन को रोकने वाले प्रतिबंध को हटाया

बता दें कि पुतिन ने रूस के चैनल में दिए गए इंटरव्यू में कहा कि अमेरिका के दूतावास और महावाणिज्य दूतावासों में ‘‘एक हजार से ज्यादा लोग काम कर रहे थे और अब भी काम कर रहे हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘755 लोगों को रूस में अपना काम बंद करना होगा.’’ रूस के राष्ट्रपति ने कहा कि वॉशिंगटन के साथ रूस के संबंधों में ‘‘जल्द’’ कोई बदलाव की उम्मीद नहीं है. Also Read - Yudh Abhyas: अमेरिका के साथ संयुक्त अभ्यास का हिस्सा बने लद्दाख में तैनात टैंक और हेलिकॉप्टर, थार के रेगिस्तान में हो रही बड़ी 'तैयारी'

दरअसल, अमेरिकी सीनेट ने वृहस्पतिवार को एक विधेयक को मंजूरी दी जिसमें 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में रूस के कथित तौर पर संलिप्त रहने और 2014 में क्रीमिया पर कब्जे के लिए प्रतिबंध कड़े करने की बात है.प्रतिबंध वाले विधेयक में ईरान और उत्तर कोरिया भी निशाने पर हैं. Also Read - डोनाल्ड  ट्रंप ने नहीं कराए थे दंगे, किसी के भी पास पर्याप्त सबूत नहीं'

इससे पहले रूस के विदेश मंत्रालय ने मांग की थी कि वॉशिंगटन रूस में सितम्बर तक राजनयिकों की संख्या कम कर 455 तक करे. इतने ही रूसी राजनयिक अमेरिका में हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘हमने काफी इंतजार किया, हमें उम्मीद थी कि स्थिति बेहतर होगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन लगता है कि अगर स्थिति बदलती भी है तो यह जल्द नहीं बदलेगी.’’

वहीं, अमरीका ने रूस के इस क़दम को अफ़सोसजनक बताया है.