इस्तांबुल: तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन ने शुक्रवार को चेताया कि कुर्द बल ‘‘सुरक्षित क्षेत्र’’ से नहीं हटे तो सीरिया में उनके खिलाफ तुर्की फिर से अपना अभियान शुरू कर देगा. अमेरिकी उप राष्ट्रपति माइक पेंस एर्दोआन के साथ बातचीत के लिए बृहस्पतिवार को अंकारा पहुंचे. नाटो का सहयोगी देश इस बात से सहमत हुआ कि तुर्की, उत्तरी सीरिया में पांच दिनों के लिए अपना अभियान रोकेगा जबकि कुर्द बल इलाके से वापस हटेंगे. एर्दोआन ने इस्तांबुल में संवाददाताओं से कहा कि मंगलवार शाम तक वादे पूरे नहीं हुए तो सुरक्षित क्षेत्र के मुद्दे को सुलझाया जाएगा. अभियान का समय 120 घंटे के बाद शुरू हो जाएगा.

उन्होंने कहा कि तुर्की के सैन्य बल क्षेत्र में बने रहेंगे क्योंकि वहां की सुरक्षा के लिए इसकी जरूरत है. बहरहाल, युद्ध की निगरानी करने वाली संस्था सीरियाई ऑब्जरवेटरी फोर ह्यूमन राइट्स ने शुक्रवार को कहा कि सीमा पर रास अल एन के पूर्व में बाब अल खेर गांव पर तुर्की ने हवाई हमले किए. संस्था ने कहा कि 14 लोगों की मौत हो गयी . तुर्की की सेना ‘सीरियन नेशनल आर्मी’ के तहत सीरिया के लड़ाकों को समर्थन दे रही है .

उत्तरपूर्वी सीरिया में कुर्द बलों ने तुर्की पर प्रतिबंधित हथियारों के इस्तेमाल का भी आरोप लगाया लेकिन एर्दोआन ने इससे इनकार किया. एर्दोआन ने कहा, ‘‘हमारे सैन्य बलों के पास कोई रासायनिक हथियार नहीं है. हमारे सैन्य बलों को बदनाम किया जा रहा.’’

(इनपुट भाषा)