मे साई: थाईलैंड में बाढ़ के पानी से भरी हुई गुफा में फंसे फुटबाल टीम के किशोरों को बाहर निकालने का प्रयास सोमवार को दूसरे दिन फिर शुरू हो गया है. रविवार को इस जोखिम भरी गुफा से चार बच्चों को जीवित निकाल लिया गया था. हालांकि एएनआई ने अपने ट्वीट में 6 लोगों को निकाले जाने की पुष्टि की है. नौ लोग अब भी गुफा में फंसे हुए हैं. जिन्हें निकालने के लिए अभियान शुरू हो चुका है. बारिश का अंदेशा इस अभियान को और मुश्किल बना रहा है जो उत्तरी थाईलैंड स्थित इस गुफा में पानी भरने के जोखिम को बढा़ रहा है. हालांकि इस बचाव योजना के रास्ते में कई और मुश्किलें आ सकती हैं. Also Read - Sarkari Naukri: राजस्थान सरकार ने दो महाविद्यालयों, न्यायालय में इतने नए पदों को दी मंजूरी, पढ़िए पूरी डिटेल 

थाईलैंड के लोगों के साथ-साथ पूरी दुनिया की नजरें इस संकट पर टिकी हुई हैं और सभी इनकी सुरक्षित वापसी की दुआ कर रहे हैं. फुटबाल टीम के किशोरों और उनके 25 वर्षीय कोच की सुरक्षित वापसी की सभी उम्मीद जता रहे हैं. गौरतलब है कि अपने कोच के साथ घूमने निकले ये किशोर अचानक पानी का स्तर बढ़ जाने के चलते 23 जून को थाम लूंग गुफा के भीतर फंस गए थे. घंटो चले इस बचाव अभियान में विशेषज्ञ गोताखोर लड़कों का मार्गदर्शन करते हुए कड़ी मशक्कत के बाद उन्हें गुफा से बाहर निकाल कर लाए. न्यूज़ एजेंसी एएफपी के मुताबिक शेष 9 सदस्यों को निकालने का अभियान शुरू हो चुका है.  

ये सभी लोग गुफा से चार किलोमीटर अंदर फंसे हुए थे जिससे बाहर निकलने के रास्ते बेहद मुश्किल और दुर्गम हैं. बचाव प्रमुख नोरोंगसाक ओस्तानाकोर्न ने रविवार को कहा कि टीम के चार लोग सुरक्षित हैं लेकिन उनकी स्थिति या पहचान के बारे में बहुत कम जानकारी दी. उन्होंने कहा था कि बचाव कार्य सोमवार की सुबह फिर से शुरू किए जाएंगे. प्रधानमंत्री प्रयुत चान- ओ- ता भी स्थिति का जायजा लेने के लिए यहां पहुंचेंगे. उनके आधिकारिक कार्यक्रम के मुताबिक वे सोमवार शाम गुफा स्थल पर आने वाले हैं.

थाईलैंड की गुफा में फंसे बच्चों तक पहुंचने के लिए बनाई जा रहीं हैं 100 से अधिक चिमनियां

वहीँ इतनी कम जानकारी मिलने के चलते परिजन अपने बेटों से मिलने को लेकर अब भी बेचैन हैं. थाई नेवी सील के एक गोताखोर की मौत ने पेशेवरों को इस बात का संकेत दे दिया है कि यह काम कितना मुश्किल और जोखिम भरा है.

थाई गुफा में बचाव अभियान के दौरान पूर्व नेवी सील की ऑक्सीजन की कमी से मौत, बचाव अभियान पर सवाल