नई दिल्ली: भारत चीन सीमा एक तरफ चीन का पाला भारत से पड़ा तो वहीं दूसरी तरफ अमेरिका व दुनियाभर के कई देश अब चीन के खिलाफ आमने सामने आ चुके हैं. दक्षिण चीन सागर में एक तरफ अमेरिकी नेवी ने गश्ती बढ़ा दी है तो वहीं दूसरी तरफ अब रूस से चीन को तगड़ा झटका लगा है. रूस ने चीन को तगड़ा झटका दिया है. रूस ने चीन को दिए जा रहे S400 मिसाइल की डिलीवरी को रद्द कर दिया है. Also Read - 'कोरोना वायरस को जैविक हथियार बनाकर युद्ध लड़ना चाहता था चीन, 2015 में किया था टेस्ट'

इस बाबत चीन के एक न्यूज पेपर ने लिखा रूस ने S400 की डिलीवरी को आगे तक के लिए बढ़ा दिया है. यह काफी पेंचीदा मामला है. रूस लगातार मिसाइल सिस्टम को खरीदने के लिए दबाव बना रहा था. लेकिन महामारी के दौरान हथियार खरीदना कोरोना के खिलाफ पीपल्स लिबरेशन आर्मी को कमजोर कर सकती है. Also Read - चीन और हांगकांग से 2450 ऑक्सीजन कंस्ट्रेटर लेकर भारत पहुंचा स्पाइसजेट का विमान

रूस ने चीन के साथ S400 मिसाइल डिलीवरी सिस्टम को ऐसे वक्त में रद्द किया है जब एक दिन पहले ही मॉस्को द्वारा चीन पर जासूसी करने का आरोप लगाया गया था. बता दें कि बीते कुछ सालों में रूस और चीन के बीच संबंध काफी सुधरे हैं. बता दें कि सेंट पीट्सबर्ग में स्थित आर्कटिक सोशल साइंसेज एकेडमी के अध्यक्ष को गिरफ्तार किया गया है. क्योंकि इन्हें चीन के साथ गोपनीय जानकारी साझा करने का दोषी पाया गया है. Also Read - भारत को मिली तीसरी COVID वैक्सीन: रूस से Sputnik V की पहली खेप हैदराबाद पहुंची