बर्लिन: रूस के विपक्षी नेता एलेक्सी नवलनी ने गुरुवार को जारी बयानों में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन पर आरोप लगाया कि उन्हें जहर देकर किए गए हमले के पीछे पुतिन हैं. राजनेता, भ्रष्टाचार जांचकर्ता एवं पुतिन के सर्वाधिक मुखर आलोचक नवलनी को बीमार होने के जर्मनी में इलाज के बाद जर्मन रासायनिक हथियार विशेषज्ञों ने पुष्टि की कि उन्हें जहर दिया गया था. Also Read - स्पुतनिक-5 के बाद रूस ने एक और कोविड-19 वैक्सीन को मंजूरी दी: व्लादिमीर पुतिन

पुतिन के सर्वाधिक मुखर आलोचक नवलनीने अपनी टिप्पणियां ऑनलाइन पोस्ट की है. इस घटना के बाद अपने पहले साक्षात्कार में, उन्होंने जर्मनी के डेर स्पीगेल पत्रिका से कहा, ”पुतिन इस हमले के पीछे थे.” बर्लिन में बुधवार को आयोजित इंटरव्‍यू के संक्षिप्त अंश में उन्होंने कहा, “मेरे पास कोई अन्य जानकारी नहीं है कि अपराध कैसे किया गया था.”
पूरे साक्षात्कार को बृहस्पतिवार को बाद में ऑनलाइन प्रकाशित किया जाएगा. Also Read - संघर्ष विराम को राजी होने के कुछ ही मिनट के बाद अर्मेनिया और अजरबैजान ने एक दूसरे पर इसके उल्लंघन का आरोप लगाया

नवलनी के समर्थकों ने अक्सर कहा है कि इस तरह के हमले तभी हो सकते हैं, जब शीर्ष स्तर पर इसके आदेश दिए गए हों. क्रेमलिन ने इसमें किसी भी तरह की संलिप्तता से लगातार इनकार किया है. Also Read - पीएम मोदी ने रूसी राष्ट्रपति पुतिन को जन्मदिन पर किया फोन, कहा- बधाई हो दोस्त

राजनेता, भ्रष्टाचार जांचकर्ता एवं पुतिन के सर्वाधिक मुखर आलोचक नवलनी 20 अगस्त को रूस में एक घरेलू उड़ान में बीमार पड़ने के दो दिन बाद इलाज के लिए जर्मनी गए. उन्होंने अस्पताल में 32 दिन बिताए, उनमें से 24 दिन वह गहन देखभाल इकाई में थे.

नवलनी बीमार पड़ने के दो दिनों तक साइबेरियाई शहर ओम्स्क के एक अस्पताल में कोमा में रहे थे. उन्हें इलाज के लिए बर्लिन ले जाए जाने से पहले रूसी डॉक्टरों ने कहा था कि उनके शरीर में जहर का कोई निशान नहीं मिला. जर्मन रासायनिक हथियार विशेषज्ञों ने पुष्टि की कि उन्हें जहर दिया गया था.