सियोलः दक्षिण कोरिया की इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद बनाने वाली दिग्गज कंपनी सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स ने शुक्रवार को अपने उन कर्मचारियों और उनके परिवारों से माफी मांगी जो उसके सेमीकंडक्टर के कारखानों में काम करते वक्त कैंसर से पीड़ित हो गए थे. इसी के साथ चिप बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी का यह दशक भर लंबा विवाद खत्म हो गया है. Also Read - Non Chinese Mobile Smartphones: ये मोबाइल फोन्स है चीनी मोबाइल फोन्स से बेहतर, mi, Realme और OnePlus को देते हैं टक्कर

कंपनी के उपाध्यक्ष किम की-नाम ने कहा, ‘‘हम उन कर्मचारियों और उनके परिवारों से दिल से माफी मांगते हैं जिन्हें कैंसर की बीमारी हुई.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम अपने सेमीकंडक्टर और एलसीडी कारखानों में स्वास्थ्य जोखिमों का ठीक से प्रबंधन करने में नाकाम रहे थे.’’ सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फोन और चिप बनाने वाली कंपनी है. इसके खिलाफ अभियान चलाने वाले समूहों के अनुसार इस संबंध में इस महीने की शुरुआत में कंपनी ने एक मुआवजा नीति की घोषणा की है. इस नीति के अनुसार सैमसंग हर पीड़ित कर्मचारी को 15 करोड़ वॉन (1,33,000 डॉलर) का मुआवजा देगी. Also Read - Non Chinese Mobile Smartphones: क्या आप भी Boycott china के समर्थक हैं, तो इन गैर चीनी मोबाइल फोन्स के बारे में जरूर जानें

गौरतलब है कि सैमसंग की सेमीकंडक्टर और डिस्प्ले कारखाने में काम करने वाले करीब 240 कर्मचारी काम के दौरान बीमार पड़े. इसमें से करीब 80 की मौत हो गई. ये कर्मचारी 16 तरह के कैंसर से पीड़ित हैं. इसमें भी कुछ के बच्चों को भी इस तरह की बीमारियां हुई हैं. यह मामला 1984 से जुड़ा है और इसका पहली बार खुलासा 2007 में हुआ था. Also Read - 150MP कैमरा के साथ स्मार्टफोन लॉन्च करने की तैयारी में है यह दिग्गज कंपनी, कीमत जानकर हो जाएंगे हैरान