इस्लामाबाद: पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने शुक्रवार को संसद में कहा कि सऊदी अरब ने बीते पांच सालों के दौरान कई अपराधों और अवैध गतिविधियों के सिलसिले में कुल 2,85,980 पाकिस्तानियों को वापस भेजा है . कुरैशी ने उच्च सदन सीनेट में उन पाकिस्तानियों की एक सूची सौंपी जिन्हें बीते पांच सालों में सऊदी अरब से वापस भेजा गया. आधिकारिक एपीपी संवाद समिति के मुताबिक एक सांसद द्वारा उठाए गए सवाल पर कुरैशी ने सीनेट में यह संख्या बताई. Also Read - Crude oil price: सऊदी अरब ने किया कच्चे तेल के उत्पादन में कटौती का वादा, 11 महीने के उच्च स्तर पर पहुंचा कच्चा तेल

सूची के मुताबिक, 2,85,980 पाकिस्तानियों को 2015 और 2019 के बीच रियाद और जेद्दा से वापस भेजा गया. उन्होंने बताया कि इनमें से 61,076 लोगों को रियाद से वापस भेजा गया था जबकि 2,24,904 लोगों को जेद्दा से वापस किया गया था. Also Read - Inflation in Pakistan at Record Level: महंगाई से त्रस्त पाकिस्तान, एक अंडे की कीमत 30 रुपये और 1,000 रुपये किलो बिक रही है अदरक

कुरैशी के मुताबिक, पाकिस्तानी नागरिकों को वीजा अवधि खत्म होने, बिना इजाजत हज करने, मादक द्रव्य की तस्करी में शामिल होने, उमरा वीजा पर पहुंचने के बाद तय अवधि से ज्यादा रुकने और झगड़ा और अन्य अपराधों में शामिल होने के सिलसिले में वापस भेजा गया. Also Read - थलसेना प्रमुख जनरल नरवणे यूएई, सऊदी अरब के लिए रवाना हुए, जानिए क्यों अहम है ये यात्रा

(इनपुट भाषा)