रियाद। सऊउी अरब ने आज महिलाओं के लिए ड्राइविंग लाइसेंस जारी करने की शुरूआत की. आधिकारिक सऊदी प्रेस एजेंसी ने बताया कि आज महिलाओं के पहले समूह को ड्राइविंग लाइसेंस दिए गए.

एजेंसी ने कहा कि यातायात महानिदेशालय ने यहां मान्याप्राप्त अंतरराष्ट्रीय ड्राइविंग लाइसेंसों को सऊदी लाइसेंसों से बदलने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. सऊदी अरब दुनिया का एकमात्र देश है जहां महिलाओं को वाहन चलाने की अनुमति नहीं है. 24 जून को यह प्रतिबंध उठाए जाने के लिए तैयारियां शुरू कर दी गयी हैं. यह कदम रूढ़िवादी देश को आधुनिक बनाने के लिए युवराज मुहम्मद बिन सलमान के उदारीकरण अभियान के तहत उठाए जा रहे हैं.

सितंबर 2017 में दी थी हरी झंडी

सऊदी अरब के शाह सलमान बिन अब्दुल अजीज अल सऊद ने सितंबर 2017 को एक शाही फरमान जारी करते हुए महिलाओं को देश में वाहन चलाने की इजाजत दी थी. उनके इस फैसले ने लंबे समय से चली आ रही उस दीर्घकालिक नीति को उलट दिया है जो अत्यंत रूढ़िवादी देश में महिलाओं के दमन का वैश्विक प्रतीक बन गई थी. यह निर्णय हालांकि, तत्काल लागू नहीं किया गया क्योंकि देश में महिलाओं के लिए ड्राइविंग सीखने या ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करने के लिए कोई बुनियादी ढांचा नहीं है.

पुलिस को महिलाओं के साथ उस तरीके से बातचीत करने के लिए प्रशिक्षित करने की जरूरत होगी जिस तरीके से शायद ही इस समाज में अनजान पुरुषों और महिलाओं के बीच बातचीत होती है. कई सालों से सऊदी मौलवी महिलाओं के ड्राइविंग करने पर प्रतिबंध लगाने के लिए कई कारण गिनाते रहे हैं, जिनमें से एक में दावा किया जाता रहा है कि ड्राइविंग से महिलाओं के अंडाशय को नुकसान पहुंचता है.