वाशिंगटनः विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अमेरिका की घरेलू राजनीतिक की तरफ भारत के निर्दलीय रुख को दोहराते हुए सोमवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ह्यूस्टन रैली में ‘अबकी बार ट्रम्प सरकार’ का जो नारा दिया था, वह महज उसका संदर्भ था जो डोनाल्ड ट्रम्प ने अपने राष्ट्रपति चुनाव प्रचार अभियान के दौरान भारतीय-अमेरिकी समुदाय का प्यार हासिल करने के लिए कहा था. वाशिंगटन की तीन दिवसीय यात्रा पर आए जयशंकर ने इस बात को सिरे से नकार दिया कि प्रधानमंत्री ने 2020 के चुनाव अभियान के लिए ट्रम्प की उम्मीदवारी का समर्थन करने के लिए ऐसा कहा था.Also Read - Kerala Rains & Landslide Update: बाढ़ और भूस्‍खलन से मौतों का आंकड़ा 21 हुआ, PM मोदी ने दुख जताया

Also Read - UP: PM मोदी 25 अक्टूबर को सिद्धार्थनगर से 7 मेडिकल कॉलेजों का उद्घाटन करेंगे, CM योगी ने दी ये जानकारी

ह्यूस्टन रैली में मोदी द्वारा इस्तेमाल किए गए नारे के भविष्य पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में भारतीय पत्रकारों के सवाल के जवाब में जयशंकर ने कहा, ‘नहीं, उन्होंने ऐसा नहीं कहा था.’ उन्होंने कहा, ‘मेरा मानना है कि प्रधानमंत्री ने जो कहा, उस पर कृपया सावधानीपूर्वक ध्यान दें. मेरी याददाश्त के मुताबिक प्रधानमंत्री ने जो कहा वह ट्रम्प ने इस्तेमाल किया था तो प्रधानमंत्री पहले की बात कर रहे थे.’ Also Read - Attacks on Hindu Temples in Bangladesh: इस्कॉन ने PM मोदी से की अपील, कहा- हिंंसा रुकवाने बांग्लादेश में भेजें प्रतिनिधिमंडल

पाकिस्तान ने UN में किरकिरी कराने वाली अपनी दूत मलीहा लोधी को पद से हटाया

विदेश मंत्री ने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि हमें बातों का गलत अर्थ निकालना चाहिए. मुझे नहीं लगता कि ऐसा करके आप किसी के लिए अच्छा कर रहे हैं.’ गौरतलब है कि 22 सितंबर को ह्यूस्टन में 50,000 से अधिक भारतीय अमेरिकियों के जनसमूह को संबोधित करते मोदी ने कहा था, ‘उम्मीदवार ट्रम्प के ‘अबकी बार ट्रम्प सरकार’ शब्दों की गूंज ऊंची और स्पष्ट है.’

जयशंकर ने पत्रकारों से सटीक रिपोर्ट देने का अनुरोध करते हुए कहा, ‘मेरा मतलब है कि वह (मोदी) जो बात कर रहे थे उसके बारे में काफी स्पष्ट थे. वह जो कह रहे थे, वह वही है जो उम्मीदवार के तौर पर कहा गया था, जो दिखाता है कि आप उम्मीदवार के तौर पर भी भारत और उसके लोगों से जुड़ने की कोशिश कर रहे हैं.’ उन्होंने कहा, ‘हमारा अमेरिका की घरेलू राजनीति की ओर निर्दलीय रुख रहा है. हमारा रुख यही है कि इस देश में जो भी होता है वह उनकी राजनीति है, न कि हमारी.’