अबुधाबी, 23 सितम्बर : भारतीय नाविकों का एक 17 सदस्यीय दल बीते आठ महीने से शारजाह के तटीय इलाके में एक जहाज पर फंसा हुआ है। इन 17 के अलावा जहाज पर इसका कैप्टन भी है जिसका संबंध म्यांमार से है।  खलीज टाइम्स की बुधवार की रपट के मुताबिक पनामा में पंजीकृत यह जहाज 18 जनवरी से संयुक्त अरब अमीरात के समुद्री इलाके में लंगर डाले हुए है। जहाज पर खाना और पानी सीमित मात्रा में है। इस पर काम करने वालों को कोई वेतन नहीं मिला है। हालात बेहद खराब हैं।  यह भी पढ़ें- ओमान एयर की सीट असंतुलन दुरुस्त करने की मांगAlso Read - SC ने तय कर दी विजय माल्या की सजा की तारीख, कहा- प्रत्यर्पण का और इंतजार नहीं कर सकते

Also Read - Omicron के खतरे के बीच यूपी सरकार ने जारी किया विदेशी और घरेलू हवाई यात्र‍ियों के लिए प्रोटोकॉल

अखबार ने इस सिलसिले में दुबई सामुद्रिक नगर प्राधिकरण को दी गई शिकायत के आधार पर यह जानकारी दी है। जहाज के कप्तान का नाम टिम को को है। वह म्यांमार के हैं। उन्होंने जल्द से जल्द मदद भेजने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि जहाज के नाविकों की सेहत तेजी से बिगड़ रही है। जहाज दुबई स्थित एक भारतीय ब्रजेंद्र कुमार चक्रवर्ती की कंपनी विहान ट्रेडिंग का है। नाविकों ने शिकायत में कहा है कि ब्रजेंद्र ने उनकी दशा सुधारने के लिए अभी तक सिर्फ झूठे वादे किए हैं। Also Read - करतारपुर में गुरुद्वारा दरबार साहिब में मॉडल के फोटोशूट का मामला पाक से लेकर भारत तक गर्माया

जहाज के अधिकारी हेमाद्री उपाध्याय ने कहा, “हम जब भी फोन कॉल करते हैं, वे यही कहते रहते हैं कि कोशिश कर रहे हैं, कोशिश कर रहे हैं। हर चीज की एक हद होती है। यह जहाज के मालिक की गलती है।” रपट में नाविकों की दुर्दशा और कंपनी की लापरवाही के अलावा जहाज के शरजाह के पास आठ महीने से खड़े रहने की वजह के बारे में कुछ नहीं कहा गया है।