नई दिल्ली. पाकिस्तान चुनाव में शिरकत कर रही विभिन्न पार्टियां अपने देश के चुनावी मुद्दों के साथ-साथ, भारत-विरोध को भी सियासी हथियार के तौर पर इस्तेमाल कर रही है. हालांकि चुनाव में भ्रष्टाचार, पनामा पेपर लीक, विकास, आतंकवाद जैसे मुद्दे भी हैं, लेकिन भारत-विरोध एक प्रमुख मुद्दा है. शायद इसीलिए पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज (पीएमएल-एन) के अध्यक्ष शहबाज शरीफ अपने चुनावी भाषणों में भारत-विरोध की हवा को भुनाने की कोशिश कर रहे हैं. शहबाज शरीफ ने कहा है कि सत्ता में आने के बाद वह पाकिस्तान को अपने कट्टर प्रतिद्वंद्वी भारत से बेहतर मुल्क बनाएंगे. एक्सप्रेस ट्रिब्यून की खबरों के मुताबिक शरीफ ने पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के सरगोधा जिले में बीते दिनों एक रैली को संबोधित करते हुए यहां तक कह डाला कि सत्ता में आने के बाद अगर वह पाकिस्तान को भारत से आगे नहीं ले जाते हैं तो आवाम उनका नाम बदल सकती है.

नवाज शरीफ की मुश्किलें बढ़ीं, पार्टी नेता हनीफ अब्बासी को उम्रकैद

बड़बोलापन- पार्टी सत्ता में आई तो पाकिस्तान को आका मानेंगे भारतीय
पंजाब के मुख्यमंत्री रह चुके 65 वर्षीय शहबाज शरीफ ने चुनाव में जीत मिलने के बाद पाकिस्तान को दुनिया के विकसित इस्लामी देशों से आगे ले जाने का भी दावा किया है. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि पीएमएल (एन) के चुनाव जीतने पर भारतवासी, पाकिस्तान को सिरमौर मानने लगेंगे. शहबाज शरीफ के हवाले से अखबार ने अपनी खबरों में कहा है, ‘वे (भारतीय) बाघा सीमा पर आएंगे और पाकिस्तानियों को अपना आका बताएंगे.’ शरीफ ने दावा किया कि वह पाकिस्तान को मलेशिया और तुर्की से भी आगे ले जाएंगे. उन्होंने कहा कि वह मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद तथा तुर्की के राष्ट्रपति तायिप एर्दोआन से मिल कर ‘उनसे सीखेंगे और पाकिस्तान को फिर से एक महान देश बनाएंगे.’

रावलपिंडी में लोगों ने लगाए ISI के खिलाफ नारे, देखें वीडियो

विपक्षी नेताओं पर भी जमकर किया प्रहार
पनामा पेपर लीक मामले में जेल की सजा पाने वाले पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के भाई शहबाज शरीफ अपनी चुनावी रैलियों में विपक्षी पार्टियों और उनके नेताओं पर भी जमकर हमले कर रहे हैं. पंजाब प्रांत की रैली में अपने भाषण के दौरान शहबाज ने कहा कि हमारे देश के साथ के झूठा वादा करने वाले इमरान खान जैसे नेताओं के पक्ष में मतदान करने से पाकिस्तान कभी महान देश नहीं बन सकता. शहबाज ने इमरान के खिलाफ चुटकी लेते हुए कहा कि सड़कों से यू टर्न के संकेतक हटा कर वहां इमरान की तस्वीर चस्पां की जानी चाहिए, क्योंकि पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के प्रमुख की राजनीति आधारहीन आरोपों और झूठे वादों पर आधारित है. पीएमएल-एन प्रमुख ने कहा, ‘खान ने पंजाब सरकार के खिलाफ भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था लेकिन मेरे खिलाफ कुछ भी साबित नहीं हुआ.’

नवाज और मरियम के मुद्दे से बटोर रहे सहानुभूति
चुनावी रैलियों के दौरान पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) के प्रमुख शहबाज शरीफ सिर्फ सियासी मुद्दों पर ही बात नहीं करते, बल्कि अभी हाल ही पनामा पेपर लीक प्रकरण के बाद पूर्व पीएम नवाज शरीफ और उनकी बेटी की गिरफ्तारी को लेकर सहानुभूति वोट बटोरने की कोशिश भी करते हैं. पंजाब की चुनावी सभा में उन्होंने कहा कि उनके बड़े भाई नवाज शरीफ लंदन में बीमार अपनी पत्नी को छोड़कर पाकिस्तान लौटे लेकिन पूर्व प्रधानमंत्री और उनकी बेटी मरियम नवाज को हवाई अड्डे पर ही गिरफ्तार कर लिया गया. शहबाज ने कहा, ‘नवाज शरीफ को उनकी मां से भी मिलने की अनुमति नहीं दी गई.’ उल्लेखनीय है कि शरीफ और उनकी बेटी मरियम को पनामा पेपर भ्रष्टाचार के मामले में एक अदालत ने क्रमश: दस और सात साल की सजा सुनाई है.

(इनपुट – एजेंसी)