वॉशिंगटन: वैज्ञानिकों का दावा है कि गायन तनाव घटाने और पार्किंसन बीमारी के लक्षणों को कम कर सकता है. संगीत थेरैपी एकदम दवा लेने के समान ही है. अमेरिका की आयोवा स्टेट यूनिवर्सिटी के अनुसंधानकर्ताओं ने गायन समूह में 17 प्रतिभागियों के हृदय गति, रक्तचाप और कोलेस्ट्रोल स्तर को मापा. Also Read - Pariksha Par Charcha 2021: PM मोदी बोर्ड परीक्षा के छात्र-छात्राओं से करेंगे 'परीक्षा पर चर्चा'

प्रतिभागियों की उदासी, बैचेनी, खुशी और गुस्से की भावनाओं की रिपोर्ट को देखा गया. इस तरह का डाटा संग्रह गायन के पहले और गायन सत्र समाप्त होने के एक घंटे बाद किया गया. Also Read - रिपोर्ट में हुआ खुलासा, कोरोना महामारी के चलते लोगों की मेंटल हैल्थ पर पड़ा है बुरा असर

यूनिवर्सिटी में सहायक प्रोफेसर एलिजाबेथ स्टेगेमोलेर ने कहा, ”हमने हर हफ्ते सुधार देखा जब वे गायन समूह छोड़ रहे थे. हमने देखा कि वे बेहतर महसूस करते रहे थे और उनकी मनोदशा उच्च स्तर की रही.” Also Read - Food Tips: स्ट्रेस कम करने के लिए इन फूड्स को कहे 'ना', जानें इनके हेल्दी ऑप्शन्स के बारे में

प्रोफेसर स्टेगेमोलेर ने कहा, ”उंगलियों के संचालन और चाल जैसे कुछ लक्षणों में सुधार आ रहा था, जिनमें दवाओं से सुधार नहीं आ रहा था, लेकिन गायन से इसमें सुधार आया.” यह पार्किंसन रोग से संबंधित अपनी तरह का पहला अध्ययन है, जिसमें देखा गया कि हृदय गति, रक्तचाप और कोलेस्ट्रोल को गायन किस प्रकार प्रभावित करता है. तीनों में ही गिरावट देखी गई.