जगरेब: क्रोएशिया में रविवार को ऐसे समय में शक्तिशाली भूकंप के झटके महसूस किए गए जब देश की राजधानी जगरेब को कोरोना वायरस के संक्रमण के मद्देनजर आंशिक तौर पर बंद रखा गया है. भूकंप की वजह से लोग घबरा गए और अस्पतालों को खाली कराना पड़ा. इस दौरान बड़े पैमाने पर क्षति पहुंची जिसमें राजधानी जगरेब का मशहूर गिरजा घर भी शामिल है. Also Read - गावस्कर-पुजारा ने कोराना से छिड़ी जंग में बढ़ाए मदद को हाथ, जानिए कितनी धनराशि की दान

अधिकारियों ने बताया कि भूंकप की वजह से 15 साल की एक किशोरी की स्थिति नाजुक है जबकि 16 अन्य लोग घायल हैं. यूरोपीय भूकंप एजेंसी ईएमएससी ने बताया कि सुबह छह बजकर 23 मिनट पर 5.3 तीव्रता का भूंकप जगरेब में आया और इसका केंद्र जगरेब के उत्तर में 10 किलोमीटर की गहराई में था. क्रोएशिया के प्रधानमंत्री आंद्रेज प्लेनकोविक ने कहा कि पिछले 140 साल में जगरेब में आया यह सबसे भयानक भूकंप है. Also Read - सनी लियोनी ने फिर एक बार शेयर की बिकिनी में बोल्ड तस्वीर, मछली की तरह दिए पोज़

यहां कई इमारतें क्षतिग्रस्त हो गई हैं. सड़कों पर मलबा बिखरा हुआ है. यह भूकंप ऐसे समय में आया है जब राजधानी में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए आंशिक तौर पर बंद लागू किया गया है. लोगों को सार्वजनिक स्थलों पर जाने से बचने के लिए कहा गया था लेकिन भूकंप के दौरान लोगों के पास अपने घरों से निकल कर बाहर जाने के अलावा कोई विकल्प नहीं था. क्रोएशिया में अब तक कोरोना वायरस के 235 मामलों की पुष्टि हो चुकी है. Also Read - COVID-19: सुरक्षा कारणों के चलते न्यूयॉर्क सिटी ने Zoom ऐप पर लगाया प्रतिबंध

देश के स्वास्थ्य मंत्री विली बेरोस ने कहा, ‘‘ भूकंप खतरनाक है लेकिन कोरोना वायरस उससे भी ज्यादा खतरनाक है.’’ वहीं प्रधानमंत्री ने कहा कि देश के सामने दो समानांतर संकट है और दोनों ही एक-दूसरे के विपरित है. प्रधानमंत्री ने शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक के बाद यह बयान दिया.

 

(इनपुट-एजेंसी)