नई दिल्‍ली/इस्‍लामाबाद: मंगलवार को दोपहर बाद आए तेज भूकंप ने पाकिस्‍तान को हिलाकर रख दिया. इसमें पाकिस्‍तान के उत्‍तरी इलाकों में भूकंप का तेज असर महसूस किया गया, जिसमें इस्‍लामाबाद, पेशावर, रावलपिंडी और लाहौर जैसे शहर भी हैं. करीब 8 से 10 सेकंड तक आए भूकंप की तीव्रता रिक्‍टर स्‍केल पर 5.7 रिकॉर्ड की गई है. ऐसे में लोगों में अफरा-तफरी मच गई. पाकिस्‍तान के कई शहरों में लोग अपने ऑफिसों से बाहर निकल आए. पाकिस्तान के सबसे बड़े मीडिया हाउस में से एक ‘द डॉन’ के मुताबिक़ जबरदस्त भूकंप आने के बाद पीओके के मीरपुर और आसपास के इलाकों में 19 लोगों की मौत हुई है. 300 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. Also Read - दिल्‍ली के कई बॉर्डर बंद, Delhi Traffic Police की एडवाइजरी, नोएडा जाने वाले इन रूट्स का करें उपयोग

लोग सोशल मीडिया में भूकंप से हुए नुकसान की फोटो और वीडियो शेयर कर रहे हैं. पाकिस्तान में कई जगहों पर सड़कें दो फाड़ हो गईं. सड़कें फट गईं. सड़कों के बीच बनी खाई में चार पहिया वाहन गिर गए. एएनआई के मुताबिक, यूरोपियन-मेडिटेरेनियन सीस्मोलॉजिकल सेंटर (EMSC) ने कहा कि रिक्टर स्केल पर 6.1 तीव्रता का भूकंप आया है. पाकिस्तान के लाहौर से 173 किमी दूर उत्तर पश्चिम में जालटन में केंद्र‍ित था. Also Read - China-India Tension: चीन बनाएगा ब्रह्मपुत्र नदी पर बांध, भारत भी बांध बनाकर देगा करारा जवाब

दिल्ली NCR सहित उत्तर भारत के कई इलाकों में भूकंप, Earthquake आने पर क्या करें और क्या नहीं Also Read - Farmers Protest Latest News: Delhi-UP Border पर बैरिकेड्स हटाने की कोशिश, सिंघु बॉर्डर पर आंदोलन रहेगा जारी

पाकिस्‍तान में आए भूकंप का असर भारत के कई उत्‍तरी राज्‍यों में देखने को मिला, जहां, कश्‍मीर, पंजाब, हिमाचल, दिल्‍ली-एनसीआर, आदि में भी भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए.

वहीं, आईएमडीके मुताबिक, आज शाम 4:31 बजे रिक्टर स्केल पर 6.3 तीव्रता का भूकंप का तेज असर जम्‍मू-कश्‍मीर में भारत-पाकिस्‍तान के बॉर्डर लाइन और एलओसी पर देखने को मिला.

उत्तर भारत के कई हिस्सों में भूकंप के झटके
दिल्‍ली, एनसीआर, चंडीगढ़, पंजाब और हरियाणा समेत उत्तर भारत के कई हिस्सों में मंगलवार को भूकंप के झटके महसूस किए गए. भूकंप विज्ञान विभाग के अधिकारियों ने यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि भूकंप का झटका शाम लगभग चार बजकर 33 मिनट पर महसूस किया गया.  क्षेत्र के कुछ स्थानों पर लोग दहशत के मारे अपने घरों और कार्यालयों से बाहर निकल आए.