सिएटल: शुक्रवार को सिएटल के मुख्य हवाई अड्डे से विमान चुराने और छोटे से द्वीप पर ले जाकर उसे दुर्घटनाग्रस्त करा कर जान देने वाले 29 वर्षीय “आत्मघाती” कर्मी ने अधिकारियों के मुताबिक सुरक्षा नियमों का किसी भी तरह से उल्लंघन नहीं किया था. अधिकारी के मुताबिक विमान चोरी होने की सूचना मिलने के बाद एफ-15 लड़ाकू विमानों से उसका पीछा किया गया लेकिन थोड़ी देर बाद ही विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया और रसेल नाम के शख्स की मौत हो गई. Also Read - COVID-19 vaccination in India: भारत में दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू, लगभग दो लाख कोरोना योद्धाओं को दी गई पहली खुराक; बड़ी बातें

Also Read - Haryana SSC Village Secretary Written Examination Canceled: हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग ने ग्राम सचिव के पदों के लिए हुई लिखित परीक्षा को रद्द किया

एयरपोर्ट से प्लेन चोरी कर आसमान में लगाने लगा चक्कर, कुछ ही देर में हुआ ये दर्दनाक हादसा Also Read - Vaccination Suspended in Maharashtra: महाराष्ट्र में भी रोका गया कोविड-19 वैक्सीनेशन प्रोग्राम, जानें अब वैक्सीन लगेगी या नहीं..?

हॉरिजन एअर के कर्मचारी रिचर्ड रसेल ने शुक्रवार को बॉम्बार्डियर क्यू-400 विमान में अपनी जान देने से पहले एक हवाई यातायात नियंत्रक के सामने अपने काम के लिए माफी मांगते हुए कहा था कि वह “पूरी तरह निराश” है.  प्लेन क्रैश होने से पूर्व एक हवाई यातायात नियंत्रक ने उससे संपर्क किया. उसने उसे रिच नाम से पुकारते हुए विमान को लैंड कराने के लिए समझाने का प्रयास किया था.

कानून प्रवर्तन अधिकारियों ने अमेरिकी मीडिया के समक्ष उसकी पहचान उजागर करते हुए इसे आतंकवादी गतिविधि मानने से इंकार किया. लेकिन अब अधिकारियों की चिंता उन सुरक्षा मानकों को लेकर बढ़ गई हैं जिनमें कमियां होने की वजह से हवाईअड्डे का एक कर्मी वाणिज्यिक हवाई विमान तक पहुंच सका और उसे एक बड़े महानगरीय क्षेत्र में उड़ा सका. हॉरिजन के परिचालन पर्यवेक्षक पद से हाल ही में सेवानिवृत्त हुए रिक क्रिस्टनसन ने कहा, “हर कोई अचंभित है कि इस तरह का भी कुछ हो सकता है.” उन्होंने कहा, “यह कैसे हो सकता है? हर किसी को पृष्ठभूमिक जांच से गुजरना होता है.”

इंडोनेशिया में विमान हादसे में 8 लोगों की मौत, जिंदा बचा सिर्फ एक बच्चा

सुरक्षा नियमों का उल्लंघन नहीं

वाशिंगटन में स्थित हवाईअड्डे पर विमानन परिचालन के निदेशक माइकल ईल ने कहा कि रसेल विमान तक “कानूनी तरीके से पहुंचा” था और उसने “सुरक्षा नियमों का किसी तरह से उल्लंघन नहीं किया.” वहीं अलास्का एअरलाइन्स से संबद्ध हॉरिजन के सीईओ गैरी बेक ने संवाददाताओं को बताया, “हमारी जानकारी के हिसाब से उसके पास पायलट लाइसेंस नहीं था.” उन्होंने कहा, “यात्री विमान बेहद जटिल मशीनें होती हैं.. समझ में नहीं आता कि उसे यह अनुभव कहां से मिला.” ( इनपुट भाषा )