बेरुत: उत्तर सीरिया में इस्लामिक स्टेट के पूर्व गढ़ रक्का में कार से किए गए फिदायीन विस्फोट में कम से कम 10 लोगों की मौत हो गई और 20 अन्य जख्मी हुए हैं. ब्रिटेन स्थित निगरानी संस्था ‘सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स’ (एसओएचआर) ने बताया कि विस्फोट में पांच असैन्य लोग और ‘सीरियन डेमोक्रेटिक फोर्स’ (एसडीएफ) के पांच सैनिक मारे गए हैं.

एसडीएफ अमेरिका समर्थित कुर्दिश अरब गठबंधन है जिसने अक्टूबर 2017 में शहर को आईएस के चंगुल से मुक्त कराया था. निगरानी संस्था ने बताया कि इस हमले की जिम्मेदारी अभी तक किसी संगठन ने नहीं ली है. हमले के बाद शहर के अन्य हिस्से में और एक बम विस्फोट हुआ जिसमें कई लोग जख्मी हुए हैं. शहर को आईएस के आतंकवादी लगातार निशाना बनाते रहते हैं.

एसओएचआर के निदेशक रमी अब्देल रहमान ने बताया कि कार बम विस्फोट के जरिए एसडीएफ को निशाना बनाया गया है. यह विस्फोट अल नईम चौराहे पर हुआ है. इस शहर पर जब आईएस का कब्जा था, तब आतंकी समूह इसी चौराहे पर लोगों का सिर कलम करता था.