एलएसी पर भारत और चीन के बीच जारी तकरार से इतर नई दिल्ली में एक रोचक मामला सामने आया है. दरअसल, नई दिल्ली स्थिति चीन के दूतावास ने ताइवान को लेकर भारतीय मीडिया को नसीहत दी है कि वह ताइवान को दुनिया में एक अलग देश के रूप में पेश न करें. इसको लेकर चीन के दूतावास ने बकायदा भारतीय मीडिया पेशेवरों को संबोधित करते हुए बयान भी जारी किया. इससे भारत की तरफ से कोई जवाब तो नहीं आया लेकिन ताइवान ने चीन को खूब खरी-खरी सुनाई. ताइवान के विदेश मंत्री की ओर से किए गए एक ट्वीट में चीन के लिए Get Lost यानी ‘दफा हो जाओ’ जवाब आया.Also Read - रक्षा मंत्रालय और स्‍पेन की एयरबस डिफेंस के बीच 56 सी-295 विमानों की खरीदी की डील पर हुए साइन, टाटा ग्रुप 40 विमान बनाएगा

नई दिल्ली में चीनी दूतावास ने कहा था कि इस धरती पर एक ही चीन है. भारतीय मीडिया को वन चाइन पॉलिसी (One China Policy) का पालना करना चाहिए. चीन के इस बयान से ताइवान तिलमिला गया. इसके जवाब में वहां के विदेश मंत्रालय ने ट्वीट किया- इस धरती पर भारत सबसे बड़ा लोकतंत्र हैं. वहां स्वंतत्र प्रेस और आजादी पसंद लोग रहते हैं. इसके आगे लिखा गया कि भारत में ताइवान के दोस्त, चीन की इस नसीहत का एक ही जवाब देंगे- दफा हो जाओ… Also Read - COVID-19: देश में कोरोना के 31,382 नए केस आए, एक्‍ट‍िव मरीज घटकर 3 लाख 162 रह गए

10 अक्टूबर को ताइवान का नेशनल डे है. इसको लेकर भारतीय मीडिया में खबरें प्रकाशित हो रही हैं. इसको लेकर चीनी दूतावास ने भारतीय मीडिया को नसीहत दी है कि वे अपनी खबरों में ताइवान को एक अलग देश के रूप में पेश न करें. चीनी दूतावास ने कहा है कि ताइवान चीन के भूभाग का एक अभिन्न अंग है. इस धरती पर दूसरा कोई चीन नहीं है. जिन देशों का चीन के साथ राजनयिक संबंध हैं उन्हें वन चाइन को लेकर अपनी प्रतिबद्धता का सम्मान करना चाहिए. दूतावास ने यह भी कहा कि भारत के साथ भी आधिकारिक तौर पर इस बात को लेकर लंबे समय से सहमति बनी हुई है. Also Read - PM मोदी ने US में क्वाड समिट से पहले ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन से मीटिंग की

दरअसल, यह पूरा मामला जी मीडिया के ताइवान को लेकर प्रसारित एक कार्यक्रम से जुड़ा है. इस कार्यक्रम को लेकर देश के एक प्रमुख अखबार में पूरे पेज का विज्ञापन छपा था. ताइवान के नेशनल डे पर इस खास कार्यक्रम को बुधवार की शाम 7 बजे प्रसारित किया गया. इसे गुरुवार को फिर स 5.30 प्रसारित किया जाएगा.

इस कार्यक्रम को लेकर चीनी दुतावास परेशान हो गया. उसने भारतीय मीडिया को नसीहत देते हुए के बयान जारी किया. जिसमें उसने भारतीय मीडिया से ताइवान को लेकर सरकार के आधिकारिक रुख का पालन करने को कहा. उसने कहा कि भारतीय मीडिया ताइवान को लेकर भारत सरकार की वन चाइना पॉलिसी को न तोड़ें.