World News: तालिबान के हौसले बढ़ते जा रहे हैं. अफगानिस्तान पर अपनी पकड़ मजबूत करने के साथ ही तालिबान  ने साफ कर दिया है कि उसके राज में आवाम को शरिया के कट्टर कानूनों का पालन करना होगा और ऐसा नहीं करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी. तालिबानी जज गुल रहीम  ने बताया कि समलैंगिकों को खौफनाक मौत दी जाएगी. उन्होंने कहा कि यदि यह पाया जाता है कि कोई व्यक्ति समलैंगिक संबंधों में लिप्त है, तो उसके ऊपर दीवार गिराई जाएगी और उसे खौफनाक मौत दी जाएगी. इसके अलावा, महिलाओं पर भी कड़े प्रतिबंध लागू किए जाएंगे.Also Read - अफगान संघर्ष: साल 2021 में मरने वाले नागरिकों की संख्या रिकॉर्ड स्तर पर पहुंची, जानिए डराने वाले आंकड़े

‘डेली मेल’ की रिपोर्ट के अनुसार, तालिबानी जज गुल रहीम का कहना है कि चोरी करने की सजा के रूप में अपराधियों के हाथ और पैर काट दिए जाएंगे. यही नहीं मध्‍य अफगानिस्‍तान में तालिबान के नियंत्रण वाले इलाकों में महिलाओं को घर से बाहर निकलने के लिए परमिट लेना होगा. वह अकेले घर से बाहर नहीं जा सकेंगी. जज रहीम ने कहा कि अमेरिका के सैनिकों के जाने के बाद यदि तालिबान पूरे देश पर कब्‍जा कर लेता है, तो हमारा उद्देश्‍य अफगानिस्‍तान में शरिया कानून लागू करना होगा, जिसे तालिबानी फरमान कह सकते हैं. Also Read - Taliban ने फिर Afghanistan में खेला 'खूुनी खेल' गजनी में 43 लोगों की कर दी हत्या, घर छोड़कर भागे लोग

जज गुल रहीम ने कहा कि’यह हमारा लक्ष्‍य है कि इस्लामिक शरिया कानून लागू और और ये लक्ष्य हमेशा से यही रहेगा.’ तालिबानी जज ने कहा, ‘अपराध के आधार पर हम उंगली के पोर या उंगलियों से शुरू करते हैं. गंभीर अपराधों में हम कलाई, कोहनी या हाथ का ऊपरी हिस्‍सा काट देते हैं. वहीं बहुत ही गंभीर अपराधों में ही पत्‍थर मारकर या फांसी पर लटकाकर मौत की सजा दी जाती है.’ Also Read - Indian Premier League 2021: आईपीएल के चलते Pakistan की फजीहत, UAE ने किया मेजबानी से साफ इनकार

बता दें कि तालिबान के लड़ाकू बेहद क्रूर तरीके से अफगान सैनिकों की गोली मारकर हत्‍या कर रहे हैं और देश के 85 फीसदी इलाके पर कब्‍जा करने का दावा कर रहे हैं. इस बीच कई तालिबानी जजों ने खुलासा किया है कि उनके राज में अब इस्‍लामिक शरिया कानून लागू होगा. इसके साथ ही अ‍ब देश में शरिया कानून लागू किए जाने का खतरा साफ तौर पर दिखाई देने लगा है.